केंद्र ने बढ़ाया डीजल के निर्यात पर अप्रत्याशित लाभ कर

केंद्र सरकार ने डीजल पर लगने वाले अप्रत्याशित कर में वृद्धि कर दी है। और विमान ईंधन को फिर से इस दायरे में लाया गया है। वित्त मंत्रालय द्वारा अधिसूचना के मुताबिक, डीजल के अप्रत्याशित कर को 5 रुपए से बढ़ाकर 7 रुपए  प्रति लीटर कर दिया है।  वही विमान ईंधन में भी 2 रुपए प्रति लीटर कि बढ़ोतरी करी है। इस महीने के शुरुआत में विमान ईंधन का अप्रत्याशित कर पूरी तरीके से खत्म कर दिया था।

मंत्रालय के मुताबिक, घरेलू कच्चे तेल का अप्रत्याशित लाभ घटकर 13 हजार/टन कर दिया है, अभी तक इसका कर 17,750 रुपए प्रति टन था। सरकार ने जुलाई में देश में पहली बार पेट्रोल-डीजल,विमान ईंधन,घरेलू कच्चा तेल के निर्यात पर अप्रत्याशित कर लगाने कि घोषणा करी थी।

 

अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल कि कीमतें छः महीने के निचले स्तर पर पहुँच गई है, जिससे भारतीय खुदरा ईंधन विक्रेताओं को पेट्रोल कि बिक्री में कोई घाटा नहीं हो रहा है, लेकिन डीजल कि बिक्री पर लगातार नुकसान जारी है। जबकि डीजल देश का सबसे अधिक इस्तेमाल वाला ईंधन है।