बागेश्वर में रोती सर पीटती छात्राओं का सच आया सामने

उत्तराखंड के बागेश्वर जिले मे एक सरकारी स्कूल में एक बड़ा ही अजीबो गरीब सा मामला संज्ञान मे आया जहा की छात्राए एक साथ बदहवास होकर रोने चीखने लगी बेहोश होकर सर पीटने का ये मामला तेजी से वायरल हो रहा है इसी बीच स्थानीय लोग इसे भूत -प्रेत व आत्मा का काम कह रहे थे जिस पर बागेश्वर जिले के मुख्य चिकित्सा अधिकारी हरीश पोखरिया ने बड़ा खुलासा कीया है

क्या था पूरा मामला ?
आपको बता दे के इस मामले ने तब तूल पकड़ा जब इस मामले को भूत प्रेत से जोड़ा गया बात 26 जुलाई की है रोज की तरह ही छात्र छात्राए आपकी कक्षा मे पढ़ाई कर रहे थे की तभी अचानक 8 वी कक्षा की छात्राएं फूट फूटकर रोने व सिर पीटने लगी जिसे देखकर सभी शिक्षकों के पसीने छूटने लगे छात्राएं इतनी तेज चिल्ला रही थी की स्थानीय लोग भी आवाज़े सुनकर स्कूल पहुच गए और मामले को देखते हुए उसे भूत प्रेत से जोड़ने लगे

डॉक्टर ने बताया सच ;
मौके पर डॉ पोखरिया पहुंचे और जब उन्हें मामले के बारे में पता चला तब जाकर इस पूरे मामले की गुत्थी सुलझी दरअसल डॉ पोखरिया ने बताया इसे मास -हिस्टीरिया [mass hysteria ] कहते है यह तब होता है जब एक व्यक्ति से प्रभावित होकर हमारा दिमाग अपने आप तरंगे छोड़ता है व सामने वाला व्यक्ति जैसा व्यवाहर या एक्शन करने लगता है उद्धारण के तौर पर अगर किसी शोक के माहोल मे कोई रोता है [mass – hysteria ] शुरु हो जाता है उस व्यक्ति को रोता देख हमारे अंदर भी वैसी ही रोने की इच्छा जागने लगती है ऐसा ही कुछ इन छात्राओ के साथ हुआ

एक छात्रा को देख चिल्लाने लगी सभी ;
डॉ पोखरिया ने बताया की इस पूरे मामले की शुरुवात एक छात्रा से हुई जिसे देखकर 2 लड़के व 6 लड़किया रोने व सिर पीटने लगी स्कूल के पास एक व्यक्ति से पूछे जाने पर पता चला की दरअसल उस लीडर छात्रा ने एक बुजुर्ग महिला रिश्तेदार का शव फांसी पर लटका हुआ देखा था उस बुजुर्ग महिला ने आत्महत्या की थी शायद वह दृश्य उसके दिलों दिमाग मे पूरी तरह से बैठ गया था कक्षा मे उसी ने सबसे पहले अजीबो गरीब हरकते करना शुरु  किया था जिसके बाद सभी बाकी छात्राए रोने बिलखने लगी