अंकिता हत्याकांड में इंसाफ की मांग को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत का धरना प्रदर्शन

उत्तराखण्ड/ के न्यूज डेस्क–  उत्तराखण्ड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने अंकिता मर्डर मामले में इंसाफ की मांग को लेकर सोमवार को धरने पर बैठे। उनका ये धरना एक दिवसीय है। इस धरने के दौरान हरीश रावत ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि वनंतरा रिसार्ट को लेकर राज्य सरकार के मंत्री के जो बयान समाने आए है, वह भविष्य में इस केस की जांच को प्रभावित कर सकते है।

 

 

 

 

हरीश रावत ने कहा कि अंकिता की वाट्सएप चेटिंग में ये साफ-साफ मौजूद है, कि उस पर बार बार VIP को स्पेशल सर्विस देने के लिए दबाव डाला रहा जा रहा था। इस संबंध में VIP की मौजूदगी काफी गंभीर है। साथ ही उन्होंने कहा अंकिता हत्याकांड में साक्ष्यों को चुपा जा रहा है। वही इस दौरान हरीश रावत ने राज्य सरकार पर विधानसभा में हुई बोक कोर भर्ती मामले पर हल्ला बोला।

 

उन्‍होंने कहा कि अगर ये नियुक्तियां अवैध है तो नियुक्ति पाने वाला दोषी नहीं है, बल्कि नियुक्ति देने और दिलवाने वाला दोषी है।

ये भी पढ़िए-सुशांत सिंह राजपूत की मौत पर चौंकाने वाला खुलासा …. ख़ुदकुशी नहीं मर्डर था ?