कानपुर कार्डियोलॉजी में चमत्कार, डॉ.नीरज कुमार ने मरीज को दिया जीवनदान

कानपुर , कानपुर में महिला के हृदय में बने छोटी फुटबॉल जैसे गुब्बारे का कार्डियोलॉजी इंस्टीट्यूट में सफल ऑपरेशन किया गया। कानपुर के हृदय रोग संस्थान के सीनियर डॉक्टर हार्ट सर्जन नीरज कुमार ने मरीज का जटिल ऑपरेशन कर नया जीवन दिया है। बता दें कि जालौन की रहने वाली मरीज सोनी द्विवेदी के दिल के बाएं चैंबर की दीवार कमजोर हुई तो खून के जमाव से गुब्बारा बन गया। जिससे उसको लेटने, बैठने और सांस लेने में तकलीफ होने लगी।
बता दें कि सोनी द्विवेदी के एन्यूरिज्म का साइज 12 सेमी का था, जो छोटी फुटबाल के बराबर था। मरीज सर्जरी के बाद वह स्वस्थ हैं। वहीं डॉ. कुमार ने बताया कि रोगी को आठ महीने पहले तकलीफ हुई थी। उन्होंने पहले जालौन के राजकीय मेडिकल कॉलेज में दिखाया। इसके बाद एसजीपीजीआई और दूसरे अस्पतालों में भी दिखाने गईं। मरीज की डायग्नोसिस नहीं हो पाई। बाद में वे कार्डियोलॉजी आईं। जांचों के बाद उन्हें लेफ्ट वेंट्रिकल एन्यूरिज्म की पुष्टि हुई। खून के जमने से गुब्बारा बना चैंबर भारी भी हो गया था। ऐसा केस बहुत बड़ी चुनौती होता है।

रोगी की 15 नवंबर को सर्जरी की गई।  इस ऑपरेशन में छह घंटे लगे। डॉ. कुमार ने बताया कि अभी तक मेडिकल लिटरेचर में ऐसा केस नहीं दिया गया।लेफ्ट वेंट्रिकल एन्यूरिज्म का इतना बड़ा ऑपरेशन सफलता से हुआ है। अभी तक इतने साइज के एन्यूरिज्म का सफल ऑपरेशन विश्व में रिकार्ड नहीं किया गया। इसे कार्डियक सर्जरी के विश्व पटल पर रखा जाएगा। डॉ. नीरज कुमार और उनकी टीम को बधाई।- डॉ. विनय कृष्णा, निदेशक, कार्डियोलॉजी इंस्टीट्यूट

ये भी पढ़ें-यूपी में कोरोना के नए वेरिएंट से बचाव के लिए गाइडलाइन जारी