यादव लैंड का झंडा अब किसके हाथ ?, चाचा की चाल या भतीजे का राज ?

यदुकुल पुनर्जागरण मिशन के जरिए भतीजे को घेरेंगे चाचा ?

जल्द ही दिखेंगे बड़े यादव चेहरे एक मंच पर

इशारों इशारों में शिवपाल यादव ने कर दी सभी बातें

यदुकुल पुनर्जागरण मिशन का विस्तार होगा पूरे देश में

महाभारत काल की भारतीय संस्कृति सभ्यता से लोगों को कराया जाएगा जागरूक

 

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के अध्यक्ष शिवपाल यादव अब यादों को अपने साथ लाने के लिए खुलकर सामने आ गए हैं । शिवपाल यादव यदुकुल पुनर्जागरण मिशन के माध्यम से पश्चिम से लेकर पूर्व तक यादवों के बड़े चेहरे को एकजुट करने में जुट गए हैं। भतीजे को घेरने के लिए शिवपाल यादव ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बड़े यादव चेहरा  डी पी यादव के नेतृत्व में एक कार्यक्रम का आयोजन किया जिसमें यूपी के कोने-कोने से बड़े यादव चेहरे उस कार्यक्रम में हिस्सा लिया। शिवपाल यादव भले ही कह रहे हो कि यदुकुल पुनर्जागरण मिशन का उद्देश्य किसी को तोड़ना नहीं लेकिन राजनीतिक हलकों में यह चर्चा जोरों पर है कि मुस्लिमों से हमदर्दी के बाद अब चाचा यादों की गोलबंदी अपने पक्ष करने में जुट गए हैं।

यादव और मुस्लिम  वह समीकरण रहा है जिसके चलते समाजवादी पार्टी को आखरी बार यूपी में सबसे बड़ी जीत मिली थी इस बार के विधानसभा चुनाव में भी यादव और मुस्लिम पूरी तरह से सपा के पक्ष में लामबंद दिखे हालांकि चुनाव बाद स्थितियां काफी बदल ली अखिलेश पर मुस्लिमों के साथ खुलकर ना आने का आरोप लग रहा है सियासत के कई बड़े मुस्लिम चेहरे उनसे नाराज बताए जा रहे हैं दूसरी तरफ शिवपाल यादव इस वर्ग की हिमायत करते दिख रहे हैं पिछली बार जब सत्ता के राष्ट्रीय महासचिव रामगोपाल यादव सपा के पूर्व विधायक रामेश्वर सिंह यादव व उनके भाई पर पुलिस केस के संबंध में सीएम योगी आदित्यनाथ से मिलने 5 कालिदास मार्ग पहुंचे थे तो शिवपाल यादव ने ही तंग किया था न्याय की यह लड़ाई अधूरी क्यों है ? आजम खान नाहिद हसन तहसील इस्लाम और कार्यकर्ताओं के लिए क्यों नहीं।

बसपा अध्यक्ष शिवपाल यादव ने कहा कि यदुकुल पुनर्जागरण मिशन के गठन की घोषणा की है इस मिशन के जरिए सभी जातियों को जोड़ा जाएगा यदुकुल में एक जात नहीं है जो भी गरीब और वंचित होगा वह इस मिशन में हिस्सा होगा मिशन से सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव को चुनौती देने की बात पर वह बोले संगठन की प्राथमिकता तोड़ना नहीं जोड़ना है शिवपाल इस संगठन के संरक्षक है जबकि डीपी यादव यदुकुल पुनर्जागरण मिशन के अध्यक्ष हैं।

यदुकुल पुनर्जागरण मिशन के अध्यक्ष डी पी यादव पूर्व मंत्री उत्तर प्रदेश सरकार उत्तर प्रदेश में यादों के साथ साथ सभी वर्ग के लोगों को इस मिशन से जुड़ने का बीड़ा उठाया है हाल ही में शिवपाल यादव से उनकी एक गुप्त मीटिंग हुई थी जिसमें यह निर्णय लिया गया था कि उत्तर प्रदेश में सभी वर्गों विशेषकर यादव बड़े चेहरों को इस मिशन से जोड़ा जाए और एक मंच पर सभी वर्ग के बड़े चेहरे राजनैतिक सामाजिक क्षेत्रीय समाज सेवा करने वाले बड़े चोरों को एक मंच पर इकट्ठा किया जाए। उसी का परिणाम है कि बृहस्पतिवार को डी पी यादव के नेतृत्व में पूरब से लेकर पश्चिम तक बुंदेलखंड से लेकर अवध क्षेत्र तक के बड़े यादव चेहरे एक साथ एक मंच पर दिखे इस दौरान उन्होंने यदुकुल पुनर्जागरण मिशन का आगाज किया और अब यह मिशन उत्तर प्रदेश के कोने-कोने में इस मिशन का विस्तार करेगा ।
साक्षात्कार डी पी यादव पूर्व मंत्री


चार बार के विधायक दो बार सांसद एक बार राज्यसभा सांसद और उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री रहे डी पी यादव से के न्यूज़ की खास बातचीत
मिशन के उद्देश्य के बारे में पूछे जाने पर डीपी यादव ने कहा कि इस मिशन का उद्देश्य महाभारत काल की परंपरा सभ्यता और संस्कृति को जन जन तक पहुंचाने और लोगों को पुनर्जागरण कर एक मंच पर इकट्ठा करने का उद्देश्य है। यदुकुल पुनर्जागरण मिशन का उद्देश्य सभी जातियों से है ना कि केवल यादव से। मिशन के माध्यम से भारत की सभ्यता संस्कृति को पुनर्स्थापित करने का उद्देश्य है और उसी उद्देश्य से सभी वर्ग के लोगों को इस मिशन के माध्यम से जागृत किया जाए मिशन का यह उद्देश्य है

मिशन के के माध्यम से सपा मुखिया अखिलेश यादव घेरने की कोशिश तो नहीं क्योंकि शिवपाल यादव भी सपा से उपेक्षित है और कभी डीपी यादव के साथ भी धोखा हुआ है

इसके जवाब में डी पी यादव ने कहा कि अभी तो फिलहाल मिशन का उद्देश्य जोड़ने का है रवि वर्ग के लोगों को भविष्य में समय परिस्थिति बनेगी तो उसका भी हिसाब होगा मुलायम सिंह यादव काल से शिवपाल यादव ने समाजवादी पार्टी हमेशा बढ़ाया है लेकिन 2000 12 के बाद परिस्थितियां बदल गई अखिलेश यादव के हाथों में जब से समाजवादी पार्टी की कमान आई है बड़े यादव चेहरे किनारे किए गए हैं अखिलेश यादव ने शिवपाल यादव को हमेशा उपेक्षित किया है साथ ही 2014 लोकसभा चुनाव में शिवपाल यादव बीपी यादव सहित कई बड़े यादव चेहरे को किनारे कर दिया जिन्होंने समाजवादी पार्टी के लिए अपना जीवन न्योछावर किया है ऐसे में भविष्य में समय और परिस्थिति बदलेगी तो उसका हिसाब भी होगा मिशन के माध्यम से जनता की राय बनेगी तो इसको राजनैतिक रूप भी दिया जाएगा और 2024 में मैदान में उतरेगी प्रदेश की देश की जनता के हित में मिशन काम करेगा ।

2024 लोक सभा चुनाव पर पूछे जाने पर डीपी यादव ने कहा कि समय का इंतजार कर रहे हैं मिशन के लोग और प्रदेश की जनता का जो निर्णय होगा वही डीपी यादव का भी निर्णय होगा।

डी पी यादव ने कहा कि समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव पार्टी के मूल सिद्धांतों से भटक गए हैं परिवार को एकजुट करने में नाकामयाब रहे जिसकी वजह से पूरा परिवार बिखर गया सामाजिक और राजनीतिक रूप से शिवपाल यादव पार्टी की स्थापना के समय से ही जान से जुटे रहे मुलायम सिंह यादव के साथ मिलकर उन्होंने समाजवादी पार्टी को यहां तक पहुंचाया लेकिन शिवपाल यादव और मुलायम सिंह यादव लोगों को जोड़कर चल रहे थे लेकिन अखिलेश यादव कुछ चुनिंदा लोगों के सलाह से चल रहे हैं जिसकी वजह से पार्टी की आज यही स्थिति हुई है। शिवपाल यादव सामाजिक राजनीतिक रूप से परिपक्व और कर्मठ राजनेता उनके अनुभव का फायदा मिशन को मिलेगा और मिशन जल्द ही उत्तर प्रदेश के साथ-साथ पूरे देश कि लोगों को जोड़ेगा और महाभारत काल के भारतीय संस्कृति सभ्यता से लोगों को अवगत कराएगा ।
2024 लोकसभा चुनाव में मिशन से जुड़े लोगों का जो भी निर्णय होगा वही डीपी यादव का निर्णय होगा शिवपाल यादव का निर्णय होगा भविष्य में इस पर विचार किया जाएगा और मिशन के लोग कहेंगे तो इसको राजनैतिक रूप भी दिया जाएगा।

सपा बसपा कांग्रेस और भाजपा से ऑफर मिले तो डी पी यादव की प्राथमिकता कौन सी पार्टी होगी के जवाब में डीपी यादव ने कहा कि सम्मान जनता का हित जहां होगा डी पी यादव वहां होंगे।