भाजपा के नव नियुक्त प्रदेश महामंत्री संगठन धर्मपाल आज लखनऊ मे लेंगे बैठक

प्रदेश मुख्यालय पर होंगी संगठन की बड़ी बैठक

अवध, काशी, कानपुर, गोरक्ष क्षेत्र के जिलाध्यक्ष और जिला प्रभारी की होगी बैठक

राष्ट्रीय महामंत्री संगठन सुनील बंसल भी होंगे मौजूद

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह रहेंगे मौजूद

डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य और बृजेश पाठक भी होंगे शामिल

धर्मपाल सिंह गाजियाबाद में पश्चिम और ब्रज क्षेत्र की बैठक कर चुके

पार्टी पदाधिकारियों के साथ बैठक के बाद सरकार और संगठन की सामूहिक बैठक भी करेंगे संगठन महामंत्री

भाजपा के नवनियुक्त संगठन महामंत्री धर्मपाल आज पहली बार भाजपा मुख्यालय लखनऊ पहुंचेंगे दोपहर 12:00 बजे भाजपा मुख्यालय पूर्व संगठन महामंत्री यूपी ,राष्ट्रीय महामंत्री सुनील बंसल भी साथ रहेंगे मौजूद नवनियुक्त संगठन महामंत्री भाजपा मुख्यालय पर दोपहर 3:00 बजे से चार क्षेत्रों काशी अवध कानपुर और गोरख करीब 35 जिलों के जिलाध्यक्ष गिरा प्रभारी क्षेत्रीय अध्यक्ष और पदाधिकारियों के साथ करेंगे बैठक पूर्व मैं झारखंड के संगठन महामंत्री धर्मपाल यूपी भाजपा के संगठन के पदाधिकारियों के साथ बैठक कर 2024 की रणनीति बनाएंगे और सरकार और संगठन के बीच सामंजस्य स्थापित करेंगे साथ ही साथ संगठन और सरकार की थाह लेंगे ।

नवनीत संगठन महामंत्री धर्मपाल आज राष्ट्रीय महामंत्री सुनील बंसल के साथ लखनऊ में यूपी के चार क्षेत्रों के सभी पदाधिकारियों के साथ बैठक करेंगे उसमें संगठन महामंत्री राजनीतिक लाभ लेने की कोशिश करेंगे आपको आपको बता दें कि इसके पहले झारखंड के महामंत्री रहे धर्मपाल इससे पहले यूपी में एबीपी के सक्रिय कार्यकर्ता रहे हैं यूपी की राजनीति में भाजपा पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं की था लेने के लिए पूर्व संगठन महामंत्री सुनील बंसल जी ने यूपी की राजनीति का चाणक्य कहा जाता है के साथ यूपी के सभी 6 क्षेत्रों के सांगठनिक ढांचा संगठन की रूपरेखा सहित तमाम विषयों पर पूर्व संगठन महामंत्री सुनील बंसल के साथ पदाधिकारियों जानने की कोशिश करेंगे।
धर्मपाल के सामने 2024 लोकसभा चुनाव बड़ी चुनौती के साथ सामने खड़ा है ऐसे में संगठन महामंत्री के रूप में धर्मपाल आज जब भाजपा मुख्यालय सुनील बंसल के साथ पहुंचेंगे तो सांगठनिक ढांचा और रूपरेखा के साथ साथ सरकार और संगठन के बीच सामान्य कैसे बनाया जाए इन सभी मुद्दों पर पदाधिकारियों के साथ साथ सरकार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ सभी मंत्रियों के साथ भी बैठक करेंगे।

भाजपा सूत्रों से पता चला है कि संगठन महामंत्री करीब एक हफ्ते के यूपी दौरे पर रहेंगे और इस दौरान वह सरकार और संगठन के बीच सामंजस्य स्थापित करेंगे। साथ में भाजपा अध्यक्ष के लिए सरकार और संगठन से चर्चा कर केंद्रीय नेतृत्व से नाम साझा कर जल्द ही प्रदेश अध्यक्ष घोषित कराएंगे ।

भाजपा पदाधिकारियों ने बताया कि जिन चार क्षेत्रों के पदाधिकारियों के साथ आज नवनियुक्त संगठन महामंत्री बैठक करेंगे उसमें सामूहिक पदाधिकारियों की बैठक के बाद अलग-अलग क्षेत्र अध्यक्षों जिला पदाधिकारियों और प्रदेश पदाधिकारियों के सात अलग-अलग भी बैठक करेंगे।

संगठन बैठक के बाद संगठन महामंत्री सरकार और संगठन के बीच भी एक बड़ी बैठक करेंगे बैठक में पूर्व संगठन महामंत्री सुनील बंसल के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह दोनों डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य बृजेश पाठक प्रदेश के सभी भाजपा पदाधिकारी और प्रदेश सरकार के सभी मंत्री उस बैठक में मौजूद रहेंगे। ऐसा बताया जा रहा है कि सरकार और संगठन की बैठक के बाद ही भाजपा को मिलेगा नया प्रदेश अध्यक्ष।

नवनियुक्त संगठन महामंत्री के सामने होंगी कई चुनौतियां

पहली चुनौती सरकार और संगठन के बीच सामंजस्य स्थापित करने का। सरकार और संगठन के बीच सब कुछ ठीक-ठाक नहीं है लगातार केंद्रीय नेतृत्व इस बात से चिंतित है जिसको लेकर केंद्रीय नेतृत्व ने लगातार सरकार और संगठन के बीच सामंजस्य स्थापित करने की कोशिश करते नजर आया था अब ऐसे में नवनियुक्त संगठन महामंत्री के सामने पहाड़ जैसी यह चुनौती खड़ी है इसको संगठन महामंत्री कैसे सुलझाएंगे यह समय ही बताएगा। दूसरी सबसे बड़ी चुनौती 2024 लोकसभा चुनाव में भाजपा को पूर्व की तरह 2014 और 2019 में भाजपा को जिस तरह से प्रचंड बहुमत लोकसभा चुनाव में मिला था उसको दोहराने का । यूपी में भाजपा सरकार का दूसरा कार्यकाल है ऐसे में 2024 लोकसभा चुनाव में भाजपा का परफॉर्मेंस 2014 और 2019 की तरह रहे इसको लेकर भी संगठन महामंत्री के सामने पहाड़ जैसी चुनौती रहेगी सत्ता में रहते रहते सरकार के खिलाफ विपक्ष लगातार हमलावर है और विपक्षी पार्टियों ने भी विपक्ष में रहते रहते अपनी चुनावी रणनीति लगातार बदलने की कोशिश करेगी साथ ही साथ विपक्षी दलों के अलावा महागठबंधन की भी चर्चा चल रही है ऐसे में महागठबंधन और विपक्षी दलों की रणनीति से भाजपा को उबारने और 2014 2019 की तरह 70 प्लस सीटों की चुनौती पहाड़ जैसी खड़ी होगी उसको समझाने के लिए नवनियुक्त संगठन महामंत्री को चुनौती का सामना कर उससे निकलने का बड़ा दबाव भी होगा।

 

तीसरी बड़ी चुनौती प्रदेश अध्यक्ष को लेकर

प्रदेश अध्यक्ष को लेकर सरकार और संगठन के बीच पिछले 1 महीने से तनातनी देखने को मिल रही है जिसकी वजह से 1 महीने से अधिक का समय हो गया लेकिन भाजपा ने उत्तर प्रदेश में नया अध्यक्ष देने में नाकाम रही है ऐसे में धर्मपाल के सामने नया प्रदेश अध्यक्ष कौन हो जो जातीय क्षेत्रीय सामाजिक समीकरण मैं भाजपा के लिहाज से फिट बैठता हो उसकी घोषणा।

इंग्लिश सभी पहाड़ जैसी चुनौतियों का सामना करने के लिए पहली बार भाजपा मुख्यालय पहुंच रहे नवनियुक्त संगठन महामंत्री धर्मपाल भाजपा पदाधिकारियों के साथ उसके बाद प्रदेश स्तर के पदाधिकारियों के साथ फिर सरकार के साथ बैठक करेंगे । सरकार और संगठन के बीच महत्वपूर्ण बैठक भी करेंगे धर्मपाल। उत्तर प्रदेश के भाजपा के सभी 6 क्षेत्रों के पदाधिकारियों प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक के बाद सरकार और संगठन के बीच करेंगे बैठक, उसके बाद सरकार और संगठन के बीच बैठक कर दिल्ली के लिए होंगे रवाना।
बताया जा रहा है कि यह सभी बैठकें करने के बाद संगठन महामंत्री धर्मपाल दिल्ली जाकर केंद्रीय नेतृत्व के साथ बैठक करेंगे उसके बाद नए प्रदेश अध्यक्ष की घोषणा होगी ।