छपरा में जहरीली शराब से हाहाकार, 20 लोगों के मौत, प्रशासन ने साधी चुप्पी

बिहार में शराबबंदी होने के बावजूद धड़ल्ले से अवैध शराब की बिक्री चल रही है। इसी वजह से आए दिन जहरीली शराब से लोगों की मौत के मामले सामने आते रहते हैं। ऐसा ही एक मामला छपरा जिले का है। जहां जहरीली शराब पीने से 20 लोगों की मौत की खबर है। जानकारी के मुताबिक कुछ लोगों ने अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। कुल 20 लोगों की मौत की जानकारी मिल रही है। हालांकि मृतकों के परिजनों का कहना है कि गांव में कुल 20 लोगों की मौत हुई है। पुलिस की तरफ से गलत आंकड़ा पेश किया जा रहा है।
घटना जिले के इसुआपुर थाना क्षेत्र के डोईला गांव की है। बता दें कि गांव में एक मेडिकल टीम लोगों का चेकअप कर रही है। मृतकों की पहचान डोईला गांव निवासी संजय सिंह, विजेंद्र राय और अमित रंजन के रूप में हुई। वहीं मशरक थाना क्षेत्र के कुणाल कुमार सिंह और हरेंद्र राम की भी मौत जहरीली शराब से हुई है। इस घटना के बाद गांव में कोहराम मचा हुआ है।

मृतकों के नामों की लिस्ट

संजय सिंह पिता वकील सिंह (डोईएला)
अमित रंजन पिता द्विजेंद्र सिन्हा (डोइला)
रामजी साह पिता गोपाल साह (मशरख)
विजेंद्र राय पिता नरसिंह राय (डोईएला)
हरेंद्र राम पिता गणेश राम (मशरख तख्त)
मुकेश शर्मा पिता बच्चा शर्मा (मशरख)
कुणाल सिंह पिता यदु सिंह (मशरख)
अस्पताल में मरीजों का इलाज कर रहे डॉक्टरों का कहना है कि शराब का अधिक सेवन करने से सभी का हालत खराब हुई है। कुल सात मरीजों को अस्पताल लाया गया था, जिसमें से पांच की मौत हो चुकी थी, जबकि दो की हालत गंभीर बनी हुई थी। दो लोगों का इलाज किया गया, लेकिन उन्होंने भी दम तोड़ दिया।

बिहार में जहरीली शराब का नहीं थम रहा कहर

बता दें कि बिहार में जहरीली शराब का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा है। पिछले हफ्ते वैशाली जिले के महनार में भी तीन लोगों की शराब पीने के बाद मौत हुई थी। उनकी भी जहीरीली शराब से मौत की आशंका जताई गई थी।

जांच में जुटी थाना पुलिस

इसुआपुर थाना पुलिस का कहना है कि मृतकों के परिजनों से पूछताछ की जा रही है। यह भी पता लगाया जा रहा है कि इन लोगों ने कहां से शराब खरीदी थी। गांव के लोगों का मेडिकल चेकअप भी कराया जा रहा है, ताकि यह पता लग सके कि किसी अन्य न तो नहीं शराब का सेवन किया था। बिहार के आबकारी मंत्री सुनील कुमार ने कहा कि जो भी दोषी होगा, उसके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी।

ये भी पढ़ें-UP नगर निकाय चुनाव की अधिसूचना जारी करने पर रोक बढ़ी, 20 दिसंबर को अगली सुनवाई