विवादों में घिर गये ‘सरकार’ , चमत्कार को सही साबित करेंगे तो मिलेगा 30 लाख का इनाम

भोपाल, बागेश्वर धाम वाले पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री का नाम तो आपने खूब सुना होगा. .. इनके वीडिओज़ भी खूब देखे होंगे.. वीडिओज़ देखकर एक बार तो दिल में ज़रूर आया होगा कि हम भी एक बार इनके दरबार में हो आएं क्या पता हमारी भी अर्ज़ी लग जाए… अब आपको लग रहा है कि आज बात अचानक से किसी लोक आस्था में विश्वास रखने वाले भक्तों के सिद्ध स्थल की क्यों हो रही है. तो आपको बता दें कि अपने भक्तों का भूत, भविष्य और वर्तमान जान लेने वाले बाबा पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री आजकल विवादों में हैं और ये विवाद क्या है सिलसिलेवार तरीके से हम आपको बताते हैं.

दरअसल, बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री पर अंधविश्वास को बढ़ावा देने और चमत्कारी दावे करने के आरोप लगे हैं। ये आरोप जादू-टोना का विरोध करने के लिए बनाई समिति ने लगाए हैं। इसके अलावा नागपुर में धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के खिलाफ केस भी दर्ज कराया गया है। समिति ने उनकी गिरफ्तारी की मांग भी की है।

अब पूरा मामला आपको विस्तार से बताते हैं.. दरअसल हुआ यूँ कि ७ और ८ जनवरी को नागपुर में बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर पंडित धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री की कथा का आयोजन किया गया था. इस कथा में बाबाजी के दियवा दरबार का भी आयोजन किया गया. जिसमें हमेशा की तरह बाबा जी ने अपने चमत्कार दिखाए. बस यहीं से धीरेन्द्र शास्त्रीजी मुश्किलों में फंस गए. जादू-टोना का विरोध करने के लिए बनाई समिति ने उनपर चमत्कारी दावे करने के आरोप लगाए हैं.

समिति का मत है कि संविधान में राम कथा या धर्म के प्रचार को लेकर रोक नहीं है। लेकिन जब इस तरह की कथा में अंधविश्वास और चमत्कारी दावे को बढ़ावा दिया जाए तो यह कानून का उल्लंघन है। ऐसे में समिति का कहना है कि उनकी बात को साबित करने के लिए धीरेंद्र शास्त्री का वीडियो भी उनके पास है।

उधर धीरेन्द्र शास्त्री ने अपने ऊपर लगे सभी आरोपो का जवाब दिया है। उन्होंने इन सभी आरोपों को एक कहावत से खारिज कर दिया है। उन्होंने कहा- हाथी चले बजार, कुत्ते भौंके हजार। उन्होंने कहा है कि कई दिनों से यहां दरबार लगाए थे, तब कोई कुछ नहीं बोला, अब उनको लेकर तरह- तरह के दावे किये जा रहे हैं। धीरेंद्र शास्त्री ने विरोध में उठ रही आवाजों को धर्म विरोधी बताया है।

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो समिति की संस्थापक श्याम मानव ने धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री को चुनौती भी दी है। साथ ही कहा है कि अगर धीरेंद्र अपने चमत्कारी दावे सही साबित कर देते हैं तो उन्हें 30 लाख रुपए बतौर इनाम दिया जाएगा। बता दें, धीरेंद्र शास्त्री ने विवादों के बीच अपनी कथा को दो दिन पहले ही खत्म कर दिया था।

कौन हैं बागेश्वर धाम के पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री

विश्व प्रसिद्ध खजुराहो मध्यप्रदेश  के गड़ा गांव पोस्ट गंज जिला छतरपुर स्थित है। यहां एक धाम है, बागेश्वर धाम सरकार।  यह लोक आस्था और मान्यताओं का केंद्र है। कहा जाता है, यहां पर लाखों लोगों की मनोकामनाएं पूरी होती है। यहां के गुरुजी धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री है।  ऐसा माना जाता है बागेश्वर धाम के गुरुजी पर भगवान हनुमान जी की कृपा है। यहां हनुमान जी और दिव्य शक्तियां गुरुजी को प्रेरणा देती हैं, कि वह लोगों की मन की बात जान लेते हैं। बागेश्वर धाम सागर जिले से 181 किलोमीटर दूर है। र्मेंद्र कृष्ण शास्त्री के दादाजी का नाम पंडित भगवानदास है। उन्हें सेतुलाल गर्ग दादजी महाराज के नाम से जाना जाता है। उनके पिता का नाम रामकृपाल है। उनकी मां का नाम सरोज है। धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री का जन्म 10 जुलाई 1996 को हुआ था।

आपको बता दें कि पंडित धीरेन्द्र शास्त्री के दिव्य दरबार के कई वीडियो इंटरनेट पर मौजूद हैं। जिसमें देखा जा सकता है कि धर्मेंद्र कृष्ण भक्तों को जाने बगैर ही उनकी मन की बात पढ़ लेते हैं और उनके भूत, भविष्य और वर्तमान जान लेते हैं। फिर उनकी समस्याओं का निदान धीरेंद्र शास्त्री उपाय बताकर करते हैं। यह सब एक दरबार में भरी भीड़ के सामने होता है। पंडित धीरेंद्र शास्त्री सोशल मीडिया पर काफी फेमस है। उनका यूट्यूब चैनल भी है। Youtube channel का नाम- Bageshwar Dham Sarkar पर 3.5 मिलियन फॉलोअर्स हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.