केंद्रीय मंत्री मनोहर लाल खट्टर ने पूर्वोत्तर में बिजली क्षेत्र के विकास के लिए सामूहिक प्रयासों पर दिया जोर

KNEWS DESK- केंद्रीय बिजली मंत्री मनोहर लाल खट्टर ने पूर्वोत्तर क्षेत्र में बिजली क्षेत्र के विकास को आगे बढ़ाने के साथ-साथ एक स्थायी भविष्य के लिए सामूहिक प्रयासों पर जोर दिया है। बीते मंगलवार को गुवाहाटी में क्षेत्र के बिजली मंत्रियों की बैठक की अध्यक्षता करते हुए मंत्री ने सामूहिक प्रयासों पर जोर दिया।

केंद्रीय बिजली मंत्री मनोहर लाल खट्टर ने एक्स पर एक पोस्ट में लिखा कि आज गुवाहाटी में सभी महत्वपूर्ण बिजली मंत्रियों के सम्मेलन (उत्तर-पूर्वी क्षेत्र) की अध्यक्षता की। सत्र के दौरान, पूर्वोत्तर क्षेत्र में बिजली क्षेत्र के विकास को आगे बढ़ाने के साथ-साथ एक अधिक आशाजनक और टिकाऊ भविष्य की दिशा में सामूहिक प्रयासों के महत्व पर प्रकाश डाला।

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने भी माइक्रो-ब्लॉगिंग साइट पर एक पोस्ट में लिखा कि पदभार संभालने के बाद असम की अपनी पहली यात्रा के दौरान माननीय केंद्रीय मंत्री श्री @mlkhattar जी के साथ मेरी बेहद उपयोगी चर्चा हुई। उन्होंने कहा कि राज्य ने असम की बिजली की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए गैस की कीमतों को तर्कसंगत बनाने में सहायता मांगी है। राज्य की अधिकतम बिजली की मांग पहले ही 2500 मेगावाट से अधिक हो चुकी है।” सरमा ने केंद्रीय ऊर्जा मंत्री को पीएमएवाई (यू) घरों की बढ़ती मांग के बारे में बताया, क्योंकि राज्य ने पहले ही स्वीकृत 1.7 लाख घरों में से 60 प्रतिशत से अधिक घर वितरित कर दिए हैं।

सीएम ने पोस्ट किया कि शहरी पेयजल आपूर्ति में संतृप्ति प्राप्त करने, गुवाहाटी रिवर फ्रंट का निर्माण करने और गुवाहाटी के पास जी20 सिद्धांतों पर एक नया सैटेलाइट टाउनशिप विकसित करने की हमारी योजनाओं को साझा किया। हमने राज्य में शहरी नियोजन के लिए उत्कृष्टता केंद्र स्थापित करने की संभावना पर भी विचार-विमर्श किया।

एक्स पर एक अन्य पोस्ट में, मुख्यमंत्री कार्यालय सीएमओ ने कहा कि सरमा ने विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की और केंद्रीय मंत्री को बिजली क्षेत्र और शहरी बुनियादी ढांचे को सुधारने के लिए राज्य की पहलों से अवगत कराया। एचसीएम ने यह भी बताया कि माननीय पीएम श्री @नरेंद्रमोदी से प्रेरित होकर, राज्य सक्षम नीति समर्थन के माध्यम से सस्ती हरित ऊर्जा सुनिश्चित करने के प्रयासों को तेज कर रहा है।

ये भी पढ़ें-  क्या 14 उत्पादों को बढ़ावा देने वाले विज्ञापन वापस लिए गए हैं? सुप्रीम कोर्ट ने पतंजलि से दाखिल करने को कहा हलफनामा

About Post Author

Leave a Reply

Your email address will not be published.