क्या 14 उत्पादों को बढ़ावा देने वाले विज्ञापन वापस लिए गए हैं? सुप्रीम कोर्ट ने पतंजलि से दाखिल करने को कहा हलफनामा

KNEWS DESK-  सुप्रीम कोर्ट ने योग गुरु रामदेव द्वारा स्थापित पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड को हलफनामा दाखिल कर यह बताने का निर्देश दिया है कि क्या उसके 14 उत्पादों के विज्ञापन वापस लिए गए हैं, जिनके विनिर्माण लाइसेंस शुरू में निलंबित कर दिए गए थे, लेकिन बाद में बहाल कर दिए गए।

उत्तराखंड राज्य लाइसेंसिंग प्राधिकरण ने 15 अप्रैल को पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड और दिव्य फार्मेसी के 14 उत्पादों के विनिर्माण लाइसेंस निलंबित करने का आदेश जारी किया था। एक ताजा घटनाक्रम में, राज्य लाइसेंसिंग प्राधिकरण ने सर्वोच्च न्यायालय में हलफनामा दाखिल कर कहा है कि विवाद के मद्देनजर पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड की शिकायतों की जांच करने वाली एक उच्च स्तरीय समिति की रिपोर्ट के बाद निलंबन आदेश रद्द कर दिया गया है। इसने कहा कि 17 मई को 15 अप्रैल के आदेश के क्रियान्वयन को रोक दिया गया था और बाद में निलंबन आदेश को रद्द कर दिया गया। हालांकि, सुनवाई के दौरान जस्टिस हिमा कोहली और संदीप मेहता की पीठ ने पतंजलि के 16 मई के हलफनामे पर गौर किया, जिसमें फर्म ने कहा था कि 15 अप्रैल के निलंबन आदेश के मद्देनजर इन 14 उत्पादों की बिक्री रोक दी गई थी।

शीर्ष अदालत, जो भारतीय चिकित्सा संघ (आईएमए) द्वारा दायर एक याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें पतंजलि द्वारा कोविड टीकाकरण अभियान और आधुनिक चिकित्सा पद्धतियों के खिलाफ बदनाम करने का आरोप लगाया गया था, ने फर्म को दो सप्ताह के भीतर अपना हलफनामा दाखिल करने को कहा।

ये भी पढ़ें-  Aaj Ka Rashifal: आज 10 जुलाई 2024 को कैसा रहेगा आपका दिन, जानें अपनी राशि का पूरा ब्‍यौरा

About Post Author

Leave a Reply

Your email address will not be published.