प्रधानमंत्री द्वारा दिए गए मिशन को पूरा करने के लिए रोडमैप तैयार है, पर्यावरण मंत्रालय का कार्यभार संभालने के बाद बोले भूपेंद्र यादव

KNEWS DESK-  केंद्रीय मंत्री भूपेंद्र यादव ने मंगलवार यानी आज पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री के रूप में कार्यभार संभाला। कीर्ति वर्धन सिंह ने भी पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन राज्य मंत्री के रूप में कार्यभार संभाला। बीते 9 जून को को प्रधानमंत्री पद का कार्यभार संभालने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा गठित नए मंत्रिमंडल में यादव को फिर से पर्यावरण मंत्री नियुक्त किया गया है।

केंद्रीय मंत्री भूपेंद्र यादव के नेतृत्व में, भारत की जलवायु संबंधी कार्रवाइयों को जर्मनवॉच द्वारा 2023 में जारी वार्षिक प्रदर्शन सूचकांक में चौथा सबसे मजबूत दर्जा दिया गया, जो पिछले वर्ष से एक स्थान ऊपर है। उनकी उपलब्धियों में भारत में चीतों का पुनः आगमन, पहचान की गई एकल-उपयोग वाली प्लास्टिक वस्तुओं पर प्रतिबंध और भारत में रामसर स्थलों – अंतरराष्ट्रीय महत्व की आर्द्रभूमि – में वृद्धि शामिल है।

देश ने अपने पिछले कार्यकाल के दौरान वन, वन्यजीव और पर्यावरण कानूनों में महत्वपूर्ण संशोधन किए। पर्यावरण मंत्री के रूप में यादव की भूमिका महत्वपूर्ण होगी क्योंकि देश 2028 में अंतर्राष्ट्रीय जलवायु वार्ता (COP33) की मेजबानी करने का प्रस्ताव रखता है।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि भूपेंद्र यादव मोदी सरकार में दूसरी बार मंत्री बने हैं। वो लंबे समय से केंद्र की राजनीति में सक्रिय हैं। उन्हें पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय की जिम्मेदारी दी गई है।

ये भी पढ़ें- सुप्रीम कोर्ट से अब्बास को मिली 12 जून तक कस्टडी पैरोल, मुख्तार अंसारी की प्रार्थना सभा में हुआ शामिल

About Post Author

Leave a Reply

Your email address will not be published.