उत्तराखंड: विधायकों द्वारा प्रदेश में बढ़ रहे नशे और अपराधिक मामलों को लेकर उठाए गए प्रश्नों के बाद डैमेज कंट्रोल के लिए बैठक का आयोजन

उत्तराखंड/ के न्यूज इंडिया: विधानसभा में विपक्ष के विधायकों द्वारा प्रदेश में बढ़ रहे नशे और अपराधिक मामलों को लेकर उठाए गए प्रश्नों के बाद अब पुलिस अधिकारी डेमेज कंट्रोल में जुट गए है। आज एसएसपी ने जनपद के विधायकों के साथ पुलिस लाइन रुद्रपुर में बैठक हुई। जिसमें विपक्ष के तीन विधायक और सत्ता पक्ष के एक विधायक ने हिस्सा लिया। बैठक में जनपद नशा खोरी और बढ़ते अपराधो में लगाम लगाने को लेकर चर्चा की गई। इस दौरान जसपुर विधायक ने कहा की जब तक नशे की बिक्री पर लगाम नहीं लगती तब तक वह पुलिस की कार्यप्रणाली से खुश नही होंगे।

आपको बता दें कि शीतकालीन विधानसभा सत्र के दौरान ऊधमसिंहनगर के कांग्रेस विधायकों द्वारा जिले की कानून व्यवस्था को लेकर उठाए गए सवालों पर डैमेज कंट्रोल के लिए एसएसपी डॉ मंजूनाथ टीसी ने विधायकों की बैठक बुलाकर अपराध रोकने के लिए उनके सुझाव जाने। बैठक में खटीमा विधायक उपनेता प्रतिपक्ष भुवन कापड़ी, नानकमत्ता विधायक गोपाल सिंह राणा के साथ ही जसपुर विधायक आदेश चौहान भी पहुंचे। पुलिस लाइन के सभागार में विधायकों के साथ एसएसपी की चर्चा हुई। इस दौरान बैठक से मीडिया को दूर रखा गया। कांग्रेस विधायकों ने शराब और मादक पदार्थों की तस्करी रोकने के लिए अपने सुझाव एसएसपी को दिए। हालांकि बैठक से बाहर आने के बाद जसपुर विधायक आदेश चौहान ने साफ-साफ कह दिया कि जब तक मादक पदार्थों की तस्करी नहीं रुकती है, तब तक वह पुलिस की इस बैठक से संतुष्ट नहीं है। एसएसपी ने कहा कि अपराध रोकने के लिए विधायकों के सुझाव लिए गए हैं। खटीमा विधायक ने जहां सीसीटीवी कैमरा के लिए 10 लाख रुपए विधायक निधि से देने की बात कही है, वहीं नानकमत्ता विधायक गोपाल सिंह राणा भी ₹500000 इस कार्य के लिए दे रहे हैं। बैठक में कुछ देर के लिए रुद्रपुर के भाजपा विधायक शिव अरोरा भी पहुंचे।

ये भी पढ़ें-लखनऊ: बढ़ती ठंड के बीच सीएम योगी ने अधिकारियों के दिए सख्त निर्देश, दुरुस्त करें रैन बसेरे, कंबल-अलाव का हो इंतजाम