दलित युवक के साथ जघन्य अपराध

उत्तरकाशी, हमारे देश का कानून सभी को समानता का अधिकार देता है जिससे सभी वर्गों के लोगों को चाहे वह किसी भी जाति धर्म का हो समाज में सम्मान से जीने का मौका मिले। लेकिन इसके बावजूद कुछ ऐसे उपद्रवी लोग हैं जो अपनी दूषित शोच को समाज पर थोपना चाहते हैं। ऐसा ही एक मामला निकलकर आया है उत्तराखण्ड के उत्तरकाशी से जहां एक दलित युवक को कुछ उपद्रवियों ने मंदिर में प्रवेश को लेकर न सिर्फ मारपीट की बल्कि उसके शरीर में कई जगहों पर जलती लकड़ी से घाव भी किये। पीड़ित युवक को गंभीर हालत में दून अस्पताल में भर्ती करवाया गया। जहां उसका उपचार किया जा रहा है।

पीड़ित को कौंवल महाराज मंदिर पर प्रवेश को, बनाया बंधक
उत्तरकाशी के मौरी के बैनोल गांव के युवक के साथ हुई यह जघन्य घटना उस समय हुई जब पीड़ित अनुसूचित जाति के युवक ने सालरा गांव के कौंवल महाराज मंदिर में प्रवेश किया। मंदिर में प्रवेश से पांच युवक बौखला गए जिसके चलते उन्होने 22 वर्षीय आयुष को बुरी तरह पीटा उसके बाद बंधक बनाकर उसके हाथ, पीठ व कमर के निचले हिस्से में जलती लकड़ी से गंभीर घाव दिये।

आक्रोशित परिजनों ने थाने में दी तहरीर
धटना से आग बबूला हुए पीड़ित के परिवार जनों ने ग्रामीणों के साथ मिलकर थाने में हंगामा काटा साथ ही आरोपितों को जल्द से जल्द गिरफतार करने को कहा। पुलिस के फौरन कार्यवाही के आश्वासन पर बमुश्किल परिजन मानें।

पांच आरोपी गिरफतार
पिता अतर लाल के बयानों के आधार पर पांच युवकों भग्यान सिंह, चैन सिंह, जयवीर सिंह, ईश्वर सिंह और आशीष सिंह को पुलिस द्वारा गिरफतार किया गया है। आरोपितों पर संघीन धाराओं के साथ ही गैर इरादतन हत्या की धारा 307 भी लगायी गयी है।