जन्मअष्टमी की रौनक पूरे प्रदेश में ,इस शुभ मुहूर्त में करे पूजा

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी को लेकर बाजारों में रौनक बढ़ गई है  श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव मनाने के लिए दून वासियों में खासा उत्साह देखने को मिल रहा है 
जन्मोत्सव को भव्य रूप देने के लिए लोग खरीदारी को लेकर बाजारों में उमड़ने लगे हैं
बाजारों में श्रीकृष्ण की आकर्षक मूर्तियां, बांसुरियां और नन्हे कन्हैया की ड्रेस लोगों को खूब आकर्षित कर रही है
भगवान श्रीकृष्ण का जन्मदिवस इस बार भी दो दिन मनाया जाएगा आज रात्रि 9.22 के बाद अष्टमी आ जाएगी और 19 अगस्त को सुबह 11 बजे तक रहेगी 
 इसके चलते 18 अगस्त को ही व्रत रखा जाएगा। 19 को जन्मोत्सव मनाया जाएगा
भगवान कृष्ण के भक्त जन्माष्टमी के दिन का बेसब्री से इंतजार करते हैं  द्वापर युग में श्रीकृष्ण का जन्म भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि, रोहिणी नक्षत्र और बुधवार को अर्धरात्रि में हुआ था  इस साल भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि 18 अगस्त को रात 9:21 मिनट से शुरू होगी, जो 19 अगस्त की रात 11 बजे तक रहेगी  ऐसे में इस वर्ष जन्माष्टमी पर अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र का संयोग नहीं बन पा रहा है
जन्माष्टमी के संबंध में ज्योतिषियों द्वारा शुभ मुहूर्त के बारे में बताते है की जन्माष्टमी ध्रुव और वृद्धि योग में मनाई जाएगी 
18 अगस्त की रात में 8.42 बजे तक वृद्धि योग रहेगा  इसके बाद ध्रुव योग शुरू होगा जो 19 अगस्त को रात 8.59 बजे तक रहेगा
 हिंदू धर्म में ये योग बेहद खास माने गए हैं