बागपत की पूजा तोमर ने मिक्स्ड मार्शल आर्ट में रचा इतिहास, बनी वर्ल्ड चैंपियन, गांव में खुशी का माहौल

रिपोर्ट – कुलदीप पंडित

KNEWS DESK – बागपत का बिजरोल गांव इस समय सुर्खियों में है, एक छोटे से गांव से निकलकर देश की बेटी ने गांव का नाम रोशन किया है| बिजरोल गांव की रहने वाली पूजा तोमर ने अमेरिका में अल्टीमेट फाइटिंग चैम्पियनशिप (UFC) में पहली फाइट जीत कर इतिहास रच दिया है |

फाइट की वीडियो पूरा गांव देख रहा

आपको बता दें कि बागपत के बिजरोल गांव की रहने वाली पूजा तोमर ने अमेरिका मे UFC मे पहली फाइट जीत कर इतिहास रच दिया है। मिक्सड मार्शल आर्ट (MMA) में पूजा तोमर अल्टीमेट फाइट चैंपियनशिप की भी विजेता बन गई है, जिसको लेकर पूरे गांव में  खुशी का माहौल है| पूजा की फाइट की वीडियो पूरा गांव देख रहा है, और अमेरिका से पूजा ने जो संदेश बिजरोल गांव वासियों के लिए भेजा उसे सुनकर पुरा गांव गद गद हैं|

बागपत की बेटी पूजा तोमर; अमेरिका में फहराया तिरंगा, पहली महिला मार्शल आर्ट फाइटर बनीं, पढ़िए- कैसा रहा स्ट्रगल? - who is pooja tomar

अपनी प्रतिद्वंदी हरा कर मैच और चैंपियनशिप जीती

गांव वाले अब वतन वापसी के बाद पूजा के जोरदार स्वागत की तैयारी मे जुट गए हैं। हालांकि बरसो पहले पूजा का परिवार बिजरोल गांव से बुढ़ाना में जा कर बस गया था पर अपनी मातृभूमि को नहीं भुला और जब पूजा ने अमेरिका में  अपनी प्रतिद्वंदी हरा कर मैच और चैंपियनशिप जीती तो उसने आपने गांव बिजरोल को याद किया और जल्द ही आने की बात भी कही |

UFC में बागपत की बेटी का जलवा: मिक्स्ड मार्शल आर्ट में वर्ल्ड चैंपियन बनी पूजा तोमर, गांव में खुशी का माहौल - baghpat s daughter shines in ufc pooja tomar becomes world

सोशल मीडिया पर पूजा तोमर ने कहा

मै अभी अमेरिका में हूँ अपनी फाइट जितने के बाद और सबसे ज्यादा में थैंक यू बोलना चाहती हूं मेरे गांव बिजरोल के सभी ताऊ जी, चाचा जी के लिए और मैं जल्दी आ रही हूं आप लोगों का आशीर्वाद लेने के लिए, लास्ट फाइट के बाद आप लोगों ने जो मुझे इतना सारा प्यार दिया थैंक यू जल्दी आऊंगी |

पूजा तोमर UFC में जीतने वाली पहली भारतीय बनीं - स्टेटटाइम्स

परिवार के लोगों में भी इस समय खुशी का माहौल

पूजा तोमर के परिवार के लोगों में भी इस समय खुशी का माहौल है| सभी लोग पूजा तोमर को अपना आशीर्वाद और दुआएं दे रहे है। बिजरोल गांव में पूजा के परिवार के लोगों का कहना है कि हम बहुत अच्छा महसूस कर रहे है। आज से करीब 50 साल पहले ये बुढ़ाना चले गए थे, उनके घर के लोगों से फोने पर बात होती रहती है। हमें बहुत खुशी है, गांव समाज के सहयोग से स्वागत करेंगे। पहले आयी थी तब भी पूरा सहयोग हुआ था।

 

About Post Author

Leave a Reply

Your email address will not be published.