पैसों की वजह से गई जान.महिला थीं घटना से अनजान

के-न्यूज़, अक्सर देखा गया है, कि कत्ल करने वाला अपराधी अपने अपराध को मिटाना चाहता है या तो अपराध को छुपाना चाहता है.  क्योकि अपराधी अपने द्वारा किए गए अपराध को छिपा कर अपने आप को बेहगुनाह बताता है. लेकिन आप ने यह सुना होगा कि कानून के हाथ लंबे होते है. ऐसा ही वाक्या  दिल्ली में देखने को मिला है. जिसको सुनकर आप हैरान हो जाएगें. क्योकि आपराधियों ने पहले एक माहिला को  मौत के घाट उतारा. फिर उसकी बॉडी को दफनाने के लिए कब्रिस्तान गए और उसके शव  को दफनाया।

हैरान करने वाली बात

ये वक्या सुनकर आप तो क्या दिल्ली पुलिस भी हैरान हो गई थी. क्योकि वाकई आपराधियों का दिमाग शातिराना. क्योकि अपराधी इतने शातिर थे कि महिला की हत्या कर उसी के नाम की क्रब खुदवाकर उसके शव को दफना दिया. इस घटना ने पुलिस के दिमाग  को हिला दिया।

पति ने दर्ज कराई थी रिपोर्ट

दिल्ली के अंजलि की घटना ने दिल्ली पुलिस की नींद तो उड़ा ही रखी थी. ऊपर से 54 वर्ष की महिला की गुमशुदा की खबर से पुलिस हैरत में आ गई. वहीं पति का कहना है कि उनकी पत्नी दोपहर को किसी काम के लिए बाहर गई थी.और देर रात जब नही लौटी तो उन्होनें फोन किया तो फोन स्विच ऑफ आ रहा था. यह देखते हुए उन्होनें तुंरत पुलिस मे FIR दर्ज कराई।

पुलिस की कार्रवाई

दिल्ली पुलिस इस बात से हैरान थी कि कही महिला का अपहरण तो नही हो गया.या किसी घटना का शिकार तो नही हो गई.इसी को देखते हुए पुलिस ने मीना के फोन को सर्विलांस पर लगाकर उनकी कॉल डिटेल निकलवाई. जिसमे हैरान करने वाली बात सामने आई.क्योकि मीना की आखिरी बार जिससे बात हुई वो मीना के साथ था.इससे ये तो साफ हो गया था कि वो मीना का जानने वाला था.अब पुलिस उन नंबरो के पीछे लग गई थी.जिस नंबर पर मीना की बात हों रहीं थी।।युवक ने बताया उस रात का राज
दिल्ली पुलिस अब एक एक अपराधियों तक पहुंच चुकी थी और एक-एक करके पुलिस दो युवक पुलिस की गिरफ्त मे थे.जिनका नाम मोबिन और नवीन है. दोनों मंगोलपुरी क्षेत्र में रहकर कामकाज करते है. पुलिस की पुछताछ में नवीन ने तो मीना के घायब होने की बात को लेकर बिल्कुल इंकार कर दिया.मगर पुलिस ने मोबिन से सख्ती से पुछताछ की तो मोबिन टूट गया.और एक-एक करके सारे राज खोलने शुरु कर दिए।

कबूल किया गुनाह और बताया कहा छुपाई लाश

मोबिन ने बताया कि मीना की मौत हो चुकी है.अब वो इस दुनिया में नही है.उसने बताया कि वो और उसके साथी के साथ मिलकर मीना को मौत के घाट उतार कर उनकी लाश को पास के क्रबिस्तान में दफ्ना दिया।

गुनहगारों ने बताई अपने जुर्म की दास्तान

आरोपियों ने बताया कि मीना और उनका कुछ पैसों का लेनदेन था. क्योकि मीना अपने घर से ही लोगों ब्याज पर पैसे दिया करती थी.और इन तीनों ने कुछ पैसे उधार ले रखे थे और जब जब मीना अपने पैसे मांगती थी.जिसकी वजह से परेशान होकर इन तीनों ने एक प्लान बनाया और पैसे वापस करने की बात कह कर उसने मीना को मोबिन के घर बुलाकर मौत के घाट उतार दिया. हत्या करने के बाद मीना की लाश इनके लिए सिरदर्द बन गई.जिसकी इन्होनें एक तरकीब निकाली कि पास के कब्रिस्तान में दफ्ना दें तो वो सब बच सकते है।मगर गुनाहगार कितना शातिर क्यों न हों अपने निशा छोड ही जाता है।