कुश्ती फेडरेशन के अध्यक्ष व सांसद बृजभूषण शरण सिंह शाम 4 बजे करेंगे प्रेस कॉन्फ्रेंस, अपने ऊपर लगे आरोपों पर देंगे सफाई

के-न्यूज/ गोंडा, कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शऱण सिंह के खिलाफ खिलाड़ियों को प्रदर्शन करते हुए तीन दिन हो गए हैं. 18 जनवरी से कुश्ती के पहलवान सांसद बृजभूषण के खिलाफ दिल्ली के जंतर मंतर में धरने पर बैठे हैं. जहां कई महिलाओं खिलाड़ियों ने बृजभूषण पर यौन शोषण के आरोप लगाए हैं वहीं सांसद ने मीडिया से बात करते हुए कहा है कि मैं आज शाम चार बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मेरे ऊपर लगे आरोपों पर जवाब दूंगा. मेरे साथ भी कई खिलाड़ी हैं.

गुरूवार से दिल्ली में कुश्ती के ओलंपियन प्लेयर फेडरेशन के खिलाफ प्रदर्शन में बैठे हैं. खिलाड़ियों की मांग है कि फेडरेशन के अध्यक्ष पद से बृजभूषण शरण सिंह के इस्तीफे की मांग कर रहे हैं.  प्रदर्शन को खाप पंचायत का भी समर्थन मिल रहा है. फोगाट खाप पंचायत ने बैठक कर तय किया है कि अगर खिलाड़ियों की मांगों को माना नहीं जाता है तो खाप पंचायत खिलाड़ियों के प्रदर्शन में शामिल होगी.

 

बृजभूषण ने इस्तीफा देने से किया माना

सांसद बृजभूषण शरण सिंह इस वक्त अपने घर गोंडा में मौजूद हैं. जहां उन्होंने मीडिया से बात करते हुए बताया वो अपने पद से इस्तीफा नहीं देगे, वो किसी की दया से अध्यक्ष नही बने हैं. मीडिया से बात करते हुए कहा मैं आज शाम चार बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपने ऊपर लगे सभी आरोपों पर सफाई दूंगा. मेरे समर्थन में भी कई खिलाड़ी मौजूद हैं. मेरे खिलाफ ये सब साजिश की जा रही है. ये साजिश कांग्रेस नेता दीपेंद्र हुड्डा के इशारे पर एक विशेष राज्य और समुदाय खिलाड़ियों के द्वारा की जा रही है.

किन-किन खिलाड़ियों ने लगाया आरोप

WFI अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह और कुछ कोच पर ओलिंपिक विजेता खिलाड़ियों ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है। दिल्ली के जंतर-मंतर पर 200 से ज्यादा खिलाड़ी बुधवार यानी 18 जनवरी से धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं। धरने पर बैठीं एक महिला पहलवान का आरोप है कि राष्ट्रीय प्रतियोगिता में आगे बढ़ने के लिए एक कोच ने उन्हें ‘साथ’ देने का दबाव डाला था। महिला पहलवान ने कहा वह पुलिस को बयान देने को तैयार हैं। पहलवान अंशु मलिक ने आरोप लगाया है कि संघ के अध्यक्ष सिंह नियम विरुद्ध होटल में महिला पहलवानों के सामने वाले कमरे में रहते थे। सिंह हमेशा अपने कमरे का दरवाजा खुला रखते थे। हम सभी डर के साए में टूर्नामेंट खेलती थीं।

72 घंटे का समय मिला है फेडरेशन को

फेडरेशन को खेल मंत्रालय की तरफ से 72 घंटे की समय सीमा दी गई है. गुरूवार को खेल मंत्रालय ने खिलाड़ियों से करीब 1 घंटे बातचीत की. इस बातचीत के बाद भी खिलाड़ी खुश नही हुए. पहले खिलाड़ी केवल अध्यक्ष के इस्तीफे की बात कर रहे थे. लेकिन अब वो पूरी फेडरेशन को भंग करने की मांग कर रहे है. जिसको लेकर खेल मंत्रालय ने फेडरेशन को 72 घंटे का समय दिया गया है. 22 जनवरी को फेडरेशन की आपत बैठक बुलाई गई है.

खेल मंत्री ने खिलाड़ियों से की मुलाकात

खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने गुरूवार देर रात पहलवानों से मुलाकात की. खेल मंत्री ने खिलाड़ियों को रात खाने में बुलाया जाता है. जहां बजरंग पूनिया, साक्षी मलिक, विनेश फोगाट और बबिता फोगाट समेत कई खिलाड़ी पहुंचे. ये मुलकात करीब पौने 4 घंटे तक चली. खेल मंत्री ने खिलाड़ियों को जल्द से जल्द कर्रवाई करने का अश्वासन दिया गया है.

  

Leave a Reply

Your email address will not be published.