वरूण गांधी की कांग्रेस में एंट्री पर बोले राहुल, वरूण के बहाने RSS पर साधा निशाना   

के-न्यूज, वरूण गांधी लगातार जनता के मुद्दे पर अपनी ही सरकार को घेरते नजर आ रहे हैं. चाहे वो बेरोजगारी का मुद्दा हो या परीक्षा के पेपर लीक का मामला हो. वो लगातार अपनी पार्टी और सरकार के कामों पर सवाल उठाते नजर आ रहे है. जिस वजह से लोगों के बीच ये माना जा रहा था कि वरूण गांधी का झुकाव कांग्रेस की ओर बढ़ रहा है और बीजेपी से उनका मोहभंग हो रहा है. जिस पर राहुल गांधी ने अपनी प्रतिक्रिया दी है.

कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा मंगलवार पंजाब के होशियारपुर पहुंची. यहां राहुल ने प्रेसवार्ता की. मीडिया से बात करते वक्त जब मीडिया ने उनसे वरूण गांधी का सवाल किया. तो राहुल गांधी ने मीडिया से कहा कि मैं उनसे मिल सकता हूं. गले लगा सकता हूं. लेकिन उनकी और मेरी विचारधारा मिलती नही है. राहुल ने कहा कि वो बीजेपी में है. उन्हें यहां आने पर दिक्कत हो सकती है. मेरी विचारधारा और उनकी विचारधारा में कोई भी समानता नही है. मेरी विचारधारा है कि मैं कभी भी आरएसएस के ऑफिस नही जाउंगा. चाहे आप मेरा गला ही क्यों ना काट दीजिए.

ना मैं नेहरू के खिलाफ हूं, ना मैं कांग्रेस के खिलाफ हूं- वरूण गांधी

वरूण गांधी ने कुछ समय पहले एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा था कि मैं ना नेहरू के खिलाफ, ना ही मैं कांग्रेस के खिलाफ हूं. मैं उस राजनीति के खिलाफ हूं जो देश लोगों को दबा रही है. मैं  उस राजनीति के साथ हूं जो देश उत्थान करें. मैं आप से कहना चाहता हूं कि जो लोग धर्म और जाति के नाम से राजनीति करते है. उनसे रोजगार और शिक्षा को लेकर सवाल पूछना चाहिए. हमारी राजनीति देश को आगे बढ़ाने वाली होनी चाहिए, ना कि देश में गृहयुद्ध कराने वाली होनी चाहिए.

राहुल गांधी ने बीजेपी और आरएसएस पर साधा निशाना

राहुल ने इससे पहले बीजेपी और आरएसएस पर निशाना साधते हुए कहा कि आज देश के संस्थाओं पर बीजेपी औऱ आरएसएस का कब्जा है. बीजेपी के द्वारा ही देश के सभी संस्थाओं को कंट्रोल किया जा रहा है. प्रेस में इन्हीं का दबाव है. चुनाव आयोग में भी इनका दबाव है. पहले चुनाव में जो दो पार्टियों के बीच लड़ाई होती थी. वो अब नहीं है. देश में अब लोकतंत्र नही बचा है. ईवीएम तो बस इसका एक हिस्सा है.