रेवन्ना, पहलवानों पर प्रधानमंत्री क्यों चुप हैं, स्वाति मालीवाल से जुड़े बीजेपी के सवाल पर बोले संजय सिंह

KNEWS DESK- आज यानी 16 मई को समाजवादी पार्टी और आम आदमी पार्टी की संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस हुई। इस दौरान संजय सिंह ने मणिपुर में महिलाओं के खिलाफ कथित अत्याचार और प्रज्वल रेवन्ना “यौन उत्पीड़न” मुद्दों पर प्रधानमंत्री की “चुप्पी” पर सवाल उठाया। संजय सिंह का बयान तब आया है जब भाजपा दिल्ली के मुख्यमंत्री के आवास पर एक कर्मचारी द्वारा आप सांसद स्वाति मालीवाल पर कथित “हमले” को लेकर आप पर निशाना साध रही है। बता दें कि संजय सिंह ने मणिपुर से लेकर कर्नाटक सेक्स स्कैंडल में फंसे प्रज्वल रेवन्ना के मामले में बीजेपी से जवाब देने के लिए कहा है।

संजय सिंह ने कहा कि प्रज्वल रेवन्ना ने कई महिलाओं का यौन उत्पीड़न किया, जिनमें से कुछ उनकी मां की उम्र की थीं लेकिन प्रधानमंत्री मोदी ने उनके लिए प्रचार किया। जब हमारी बहनें और बेटियां दिल्ली की सड़कों पर विरोध प्रदर्शन कर रही थीं, तो स्वाति मालीवाल उनका समर्थन करने के लिए वहां गईं। पुलिस ने उन्हें घसीटा और पीटा। यही हमने हाथरस मामले में कुलदीप सेंगर के मामले में भी देखा, प्रधानमंत्री चुप थे। मालीवाल मुद्दे पर उन्होंने आगे कहा कि आप एक परिवार है। हमने अपना रुख साफ कर दिया है।

स्वाति मालीवाल के मामले पर संजय सिंह ने कहा कि आम आदमी पार्टी हमारा परिवार है। पार्टी ने अपना पक्ष रख दिया है। देश के जितने भी मुद्दे हमने उठाए हैं। उन सभी मामलों पर बीजेपी और पीएम मोदी को जवाब देना चाहिए। साफतौर पर संजय सिंह ने कहा कि स्वाति मालीवाल के मुद्दे पर बीजेपी को जवाब देना चाहिए। जब स्वाति पहलवानों से मिलने जंतर- मंतर गईं थीं तो उनके साथ बदसलूकी की गई थी। भारतीय जनता पार्टी को इस पर जवाब देना चाहिए। बता दें कि स्वाति मालीवाल के मसले पर संजय सिंह ने कहा कि इस मामले पर राजनीतिक खेल न खेला जाए। साथ ही भारतीय जनता पार्टी को मणिपुर के मुद्दे पर भी जवाब देना चाहिए।

बता दें कि स्वाति मालीवाल बीते सोमवार को सिविल लाइंस पुलिस स्टेशन गईं और आरोप लगाया कि दिल्ली के मुख्यमंत्री के निजी स्टाफ के एक सदस्य ने मुख्यमंत्री के आधिकारिक आवास पर उनके साथ “मारपीट” की।

ये भी पढ़ें-  शॉर्ट्स पहनकर मंदिर पहुंचीं अंकिता लोखंडे, यूजर्स ने लगा दी एक्ट्रेस की क्लास

About Post Author

Leave a Reply

Your email address will not be published.