एक्शन में सरकार 20 दरोगा बाहर !

एक्शन में सरकार 20 दरोगा बाहर !

उत्तराखंड देवभूमि में भर्ती घोटालों और परीक्षाओं मे हुई धांधली का भंडाफोड़ लगातार धामी सरकार में हो रहा है और साथ ही बड़ी कार्यवाही उन अपराधियों के ऊपर भी हो रही है जो इन गंभीर मामलों में सम्मिलित है लगातार सरकार का एक्शन भर्ती में हुए घोटालों के खुलासो को लेकर देवभूमि में आज कल खूब चर्चाओं में है वही ताजा मामला सोमवार शाम का है जब भर्ती घपले में 20 दरोगा को सस्पेंड कर दिया गया और वहीं अब 30 के ऊपर अभी भी तलवार लटकी हुई है उत्तराखंड पुलिस में 2015 की भर्ती में संदिग्ध पाए गए 20 दरोगा को पुलिस मुख्यालय ने निलंबित करने के निर्देश दिए हैं विजिलेंस जांच के बाद इनकी सूची पुलिस मुख्यालय को भेजी गई थी जिसके बाद डीजीपी अशोक कुमार ने जांच पूरी होने तक जिला प्रभारियों को इन्हीं सभी दरोगा को निलंबित करने के निर्देश दिए हैं इसके अलावा 30 और दरोगाओ के खिलाफ कार्रवाई हो सकती है आपको बता दें पंतनगर विवि ने वर्ष 2015 में दरोगा के 347 पदों पर भर्ती परीक्षा कराई थी जून 2015 में इसका रिजल्ट निकला और वही जुलाई 20016 में 339 लोगों ने ही पुलिस को ज्वाइन किया था पिछले साल यूके ट्रिपल एससी भर्ती घपले की जांच के दौरान एसटीएफ को इस भर्ती में भी धांधली का पता चला शुरुआती जांच में पेपर लीक और नकल की भी पुष्टि होने पर एसटीएफ ने पुलिस मुख्यालय को जानकारी दी थी इसके बाद निरपक्ष जांच के लिए डीजीपी अशोक कुमार ने शासन को विजिलेंस जांच के लिए पत्र लिखा था जिसके बाद तुरंत पुलिस मुख्यालय से 20 दरोगा को निलंबित करने का फरमान जारी कर दिया गया और अभी भी 30 और अन्य के खिलाफ जल्द  कार्यवाही हो सकती है वही निलंबित किए गए दरोगा को लेकर विपक्षी दल फिर सवालों की बौछार सरकार पर कर रहा है.

वही दरोगा भर्ती मामले में अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई के रूप में सस्पेंड किए गए 20 दरोगा के मामले में एडीजी डॉ वी. मुरुगेशन ने बताया कि यह कार्रवाई पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार के आदेश के तहत की गई है। आदेश में साफ तौर पर कहा गया है कि जब तक इस मामले की पूरी जांच नहीं हो जाती संदिग्ध 20 दरोगा निलंबित रहेंगे

दरोगा भर्ती मामले पर लगातार सरकार का एक्शन जारी है तो वही भाजपा का मानना है कि दरोगा भर्ती मामले में पूर्ण रूप से कांग्रेस जिम्मेदार है क्योंकि उस समय हरीश रावत की सरकार थी और उनके समय पर ही इस तरीके की भर्ती में घोटाला का पर्दाफाश भाजपा की सरकार ने किया है और जल्द ही भाजपा की सरकार नकल विरोधी कानून प्रदेश में लाने वाली है ताकि युवाओं के भविष्य को अंधकार में ना डाला जाए भले ही हरीश रावत पूरे मामले पर राजनीति कर रहे हो लेकिन दरोगा भर्ती मामले पर कांग्रेस की सरकार पूर्ण रूप से लिप्त है
वही दरोगा भर्ती मामले पर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने लगातार भर्तियों में हो रहे घोटाले को लेकर गांधी पार्क में कई शीर्ष नेताओं के साथ मौन व्रत भी रखा उनका मानना है अगर कहीं पर भी हमारे समय पर घोटाला हुआ है तो उस घोटाले में जो भी लिफ्ट है उनके खिलाफ कार्यवाही होनी चाहिए क्योंकि ये बेहद गंभीर और तकलीफ दे ही मामला है
यूके ट्रिपल एससी भर्ती घोटाले में चर्चित नाम हाकम सिंह का आने के बाद से जब एसटीएफ ने हाकम सिंह से पूछताछ की तो इस मामले का खुलासा हुआ था अब तक सोशल मीडिया में हाकम सिंह के साथ दो नव चयनित दरोगा के फोटो आने से शक और गहरा गया था तभी से लेकर लगातार एसटीएफ इस मामले को खंगालने में लगी थी जब सोशल मीडिया में अकाउंट खंगाले गए तो उनके पोस्ट से जांच एजेंसियों को 7 साल पहले हुई दरोगा भर्ती में घपले के सुराग हाथ लगे जांच आगे बढ़ती तो घपला परत दर परत खुद ही खुलता गया अब इस मामले में 20 दरोगा को निलंबित कर ही दिया है 12 के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज किया गया है लेकिन सूत्र ये भी बता रहे हैं कि जल्द ही 30 अन्य लिप्त लोगों के खिलाफ भी बड़ी कार्रवाई विभाग द्वारा की जाएगी देहरादून से राजेश वर्मा की रिपोर्ट।