अपने हाथ लेंगे सीएम धामी केन्द्रीय योजनाओं की जिम्मेदारी

राज्य के नौकरशाह अपना काम सही से नहीं कर रहे है इसीलिए सीएम धामी को इसके लिए खुद आगे आना पद रहा है, नौकरशाह केंद्र का बजट खर्च करने में सुस्ती दिखा रहे है। एसी हालत में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने खुद इन योजनाओं की समीक्षा हर 15 दिन के भीतर करने का निर्णय लिया है।

प्रधानमंत्री के साथ हुई मुख्यमंत्री बैठक से लौटने के बाद सीएम ने सचिवालय में पत्रकार वार्ता की जिसमें उन्होंने बताया की जो केन्द्रीय योजनाएं प्रधानमंत्री की प्राथमिकता में है उनकी समीक्षा वो खुद करेंगे। उन्होंने इन योजनाओं का एजेन्डा तैयार करने को कहा है। वित्त विभाग से आई रिपोर्ट के मुताबिक पिछले तीन वर्षों में केन्द्रीय योजनाओं का 3825करोड़ रुपए खर्च नहीं हुए है। जिसके चलते कीं धामी ने कहा है की समय पर काम ना करने वाले अफसरों पर कार्यवाही होगी।

जीएसटी प्रतिपूर्ति के रूप में केन्द्रीय सहायता बंद होने पर अब सरकार ने जीएसटी बढ़ाने पर लीकेज दूर करने का निर्णय लिया है। ऐसे सभी विभागों को राजस्व बढ़ाने के निर्देश दिए है। साथ ही सीएम धामी अक्तूबर में बाकी मुख्यमंत्री से केन्द्रीय योजनाओं का ब्योरा ले सकते है।

सीएम धामी इन योजनाओं की मोनिटरिंग करेंगे आयुष्मान भारत, पीएम शहरी व ग्रामीण आवास, स्वनिधि योजना, जल जीवन मिशन, स्वच्छ भारत अभियान, जन आरोग्य योजना, स्किल डेवलपमेंट, नेचुरल फ़ार्मिंग, श्रम सुधार, प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना, स्टार्ट अप, महिला उद्यमिता, अमृत सरोवर आदि।