कभी सोचा है क्यों होता है स्कूल बसों का रंग पीला

हम कभी रंगों के बारे मे गौर से सोचते  ही नहीं पर रंगो की भूमिका हमारे जीवन में बेहद खास है हर रंग अपने आप में किसी चीज का चेतक होता है जैसे लाल रंग सावधानी का प्रतिक तो वही सफेद आँखों को शीतलता प्रदान करता है पर क्या आपने कभी सोचा है की स्कूल बसों का रंग पीला ही क्यों होता है स्कूल बस चाहे किसी भी शहर व देश की क्यों ना हो उसका रंग हमेशा पीला ही रहता है

आइये जाने इसके पीछे के वैज्ञानिक कारण
कई लोगों के मुताबिक स्कूल बस का रंग पीला होने के पीछे एक वैज्ञानिक कारण है रंग की एक विशेष वेवलेंथ और फ्रीक्वेंसी होती है. जैसे, लाल रंग की वेवलेंथ अन्य गहरे रंगों में सबसे अधिक होती है यही कारण है कि इसका इस्तेमाल ट्रैफिक  की स्टॉप लाइट के तौर पर किया जाता है वेवलेंथ की बात करें तो इस मामले में पीले रंग की वेवलेंथ लाल से कम और नीले से ज्यादा होती है

इसीलिए लाल की जगह पीले का किया जाता है प्रयोग
लाल रंग को खतरे को सूचित करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है  इसके बाद पीले  ही ऐसा रंग है जिसका इस्तेमाल स्कूल बस के लिए किया जा सकता है पीले रंग की एक और खासियत यह है कि इसे कोहरे, बारिश और ओस में भी  आराम से देखा जा सकता है इसके अलावा पीला रंग इंतज़ार यानी वेट (ट्रैफिक ) के अनुसार जोकी  बाकी वाहनों को सतर्क करता है कि अंदर स्कूली बच्चे है कृपया इंतजार करें इसलिए स्कूल बसों को रंगने के लिए पीले रंग का इस्तेमाल किया जाता है

सुप्रीम कोर्ट ने भी जारी की है गाइडलाइन
सुप्रीम कोर्ट ने स्कूल बसों  के लिए कई प्रकार के दिशा निर्देश जारी किए हैं, जिसके अनुसार स्कूल बसों को पीले रंग से रंगना सभी स्कूलों के लिए अनिवार्य है.