भारत-पाक संबधों को सुधारने के लिए आगे आयेंगे श्री श्री रविशंकर!

Shabi Haider

LUCKNOW : श्री श्री रविशंकर के श्रीलंका में लिट्टे और सरकार के बीच किये गये शांति प्रयासों को लेकर एक किताब लिखी गयी है। इस किताब का नाम ‘‘टूटा टाइगर‘‘ है और इसे आर्ट ऑफ लिविंग के इंटरनेशनल फैक्लटी और श्री श्री रविशंकर के शिष्य स्वामी विरूपाक्ष ने लिखा है। इंग्लिश, हिंदी और तमिल भाषा में लिखी गयी गयी इस किताब को लोग पंसद कर रहे हैं और इसकी अबतक 10 हजार प्रतियां बिक चुकी है।

टूटा टाइगर श्री श्री रविशंकर के श्रीलंका में किये गये शांति प्रयासों के अनुभवों पर आधारित पुस्तक है। इस पुस्तक में लिटटे प्रमुख प्रभाकरन से कि गयी बातचीत और उसके बाद किन परिस्थितयों से पूरी शांति प्रक्रिया गुजरी उसको बताया गया है। श्री श्री रविशंकर द्वारा किये गये सामाजिक कायों की एक लंबी सूची है। उन्होंने भारत में राम मंदिर और बाबरी मस्जिद विवाद का शांतिपूर्वक हल निकालने में काफी मदद की है।

क्या श्री श्री को भारत-पाक सबंधों को सुधारने के लिए आगे आना चाहिए का जवाब देते हुए पुस्तक के लेखक स्वामी विरूपाक्ष ने बताया कि इस सवाल का जवाब तो श्री श्री ही दे सकते हैं लेकिन निश्चित तौर यदि गुरू जी की इस मुददे पर जरूरत पड़ेगी तो वह आगे आएंगे।