अमेरिका से हो रही भारत की डील , खरीदेगा अलकायदा चीफ अल जवाहिरी को मारने वाला ड्रोन

किसी भी देश की सुरक्षा के लिए उसकी सीमाओं का सुरक्षित होना बहुत ही महत्वपूर्ण होता है जिसके कभी 
कोई राष्ट्र अपने सीमबल बढ़ डेटा है तो कोई अपने हथियारों में विशेष ध्यान ऐसा ही कुछ भारत भी इन दिनों कर रहा है 
चीन से लगी वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर और हिंद महासागर में सतर्कता बढ़ाने के लिए तीन अरब डॉलर से अधिक की लागत से ’30 एमक्यू-9बी प्रीडेटर’ सशस्त्र ड्रोन खरीदने को लेकर भारत की अमेरिका के साथ बातचीत अंतिम चरण में है  एमक्यू-9बी ड्रोन एमक्यू-9 ‘रीपर’ का एक प्रकार है. ऐसा बताया जाता है कि एमक्यू-9 ‘रीपर’ का इस्तेमाल हेलफायर मिसाइल के उस संशोधित संस्करण को दागने के लिए किया गया था जिसने पिछले महीने काबुल में अलकायदा सरगना अयमान अल-जवाहिरी को मार गिराया था 
 इन ड्रोन को तीनों सशस्त्र बलों (थलसेना, वायुसेना और नौसेना) के लिए खरीदा जा रहा है  यह चार हेलफायर मिसाइल और करीब 450 किग्रा बम ले जा सकता है
 इसे निगरानी, खुफिया जानकारी जुटाने और दुश्मन के ठिकानों को नष्ट करने सहित कई उद्देश्यों के लिए तैनात किया जा सकता है  
रक्षा प्रतिष्ठान के आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि रक्षा क्षेत्र की प्रमुख अमेरिकी कंपनी ‘जनरल एटॉमिक्स’ द्वारा निर्मित ड्रोन की नयी दिल्ली और वाशिंगटन के बीच सरकारी स्तर पर खरीद के लिए बातचीत चल रही है. उन्होंने उन खबरों को खारिज कर दिया, जिनमें कहा गया है कि इस सौदे पर अब बातचीत नहीं चल रही है. ‘जनरल एटॉमिक्स ग्लोबल कॉरपोरेशन’ के मुख्य कार्यकारी डॉ विवेक लाल ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि दोनों सरकारों के बीच खरीदारी कार्यक्रम पर बातचीत अंतिम चरण में है