गणेश चतुर्थी 300 वर्ष बाद ग्रहों का होगा अद्भुत संयोग

300 वर्ष बाद ग्रहों का होगा अद्भुत संयोग

आज हर एक घर में गणेश भगवान की स्थापना हो चुकी है हर कोई बहुत ही उत्साह से अपने घर में उनका स्वागत कर रहा है।गणेश भगवान को विघन हरता भी कहा जाता है। आज गणेश चतुर्थी पर 300 वर्ष बाद ग्रहों का काफी अद्भुत संयोग बन रहा  है। आज देहरादून में काफी घरों और पंडालों में गणेश जी की स्थापना की जाएगी और बहुत से विधि विधान के साथ हर कोई गणेश जी की स्थापना करेगा और उनकी आराधना करेगा। हर कही गणेश जी के पंडाल को बहुत ही सुन्दर तरीके से सजा दिया गया और सिर्फ सुंदर नजारा ही देखने को मिल रहा है और लोगों में बहुत ही  उत्साह है।   
गणेश चतुर्थी पर बन रहे है यह योग
1. बुधवार को भगवान गणेश की स्थापना और पूजा के लिए शुभ मुहूर्त सुबह 11 बजे से लेकर दोपहर 1 बज कर 35 मिनट तक का समय अधिक शुभ है। 
2. गणेश चतुर्थी से लेकर अंत तक काफी राजयोग भी बन रहे है। लंबोदर योग सबसे खास है। 
3. इस बार ठीक वही स्थिति बन रही है जब गणेश चतुर्थी  बुधवार, चित्रा नक्षत्र और शुभ योग में पढ़ रहे हो।
4. चार ग्रह सूर्य, बुध,बृहस्पति, शनि अपनी अपनी राशियों में गोचर होंगे। 
5. ऐसे संयोग में पूजन करने का कई गुना अधिक फल मिलता है।