हरिद्वार में नजर आया दूसरा श्रवण कुमार

हमने अक्सर बचपन में श्रवण कुमार की कहानी जरूर सुनी होंगी जिसमे अपने दृष्टि रहित माता पिता को कावड़ पर बिठाकर अपने कंधों पर लाधकर श्रवण कुमार दूर दराज तक ले जाता है ऐसा ही दूसरा श्रवण कुमार देखने को मिला हरिद्वार कावड़ यात्रा 2022 मे माता पिता को को कावड़ मे बिठाकर अपने कंधे से लाधकर गाजियाबाद से विकास गहलोत पैदल हरिद्वार पहुचे कावड़ मेला यात्रा धर्म ,आस्था ,भक्ति का पर्व होता है श्रावण मास मे चलने वाली ये यात्रा भगवान शिव को पूर्ण रूप से समर्पित होती है मान्यताओ के अनुसार कावड़ मे गंगा जल भर के गंतव्य का ले जाया जाता है इसी क्रम में ऐसा ही कुछ करते नजर आए विकास गहलोत अपने मा बाप की आँखों पर पट्टी बांध कर ताकि माता पिता को बेटे का दर्द देख पीड़ा न हो कावड़ पर बिठाकर महादेव का जलाभिषेक करने निकल पड़े विकास जिसकी तारीफ़ों के पुल हर कोई बांध रहा है विकास का कहना है ये उनके माता पिता की इच्छा थी की वे कावड़ यात्रा करे लेकिन उनकी उम्र उन्हे ऐसा करने से रोक रही थी कोरोनाकाल के दो वर्ष बाद अपने माता पिता की इस इच्छा को पूरा करने निकाल पड़े गाजियाबाद के दूसरे श्रवण कुमार चिलचिलाती धूप और बारिश सैकड़ों किमी का पैदल सफर तय कर विकास की हिम्मत और माता पिता के प्रति प्यार व समर्पण की हर कोई तारीफ कर रहा है ॥