‘विश्व अंग दान दिवस’ 2022

हर साल 13 अगस्त को विश्व अंग दान दिवस मनाया जाता है। इस दिन लोगों को दुनियाभर में अंग दान करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। स्वस्थ व्यक्ति मृत्यु के पश्चात अपने अंगों को दान करके अनेक व्यक्तियों की जान बचा सकता है। हम अपने किडनी, हार्ट, आँखें, अग्नाशय, फेफड़े, आदि महत्वपूर्ण अंगों का दान कर सकते है। इससे उन लोगों को मदद मिलती है जिन्हें स्वस्थ अंगों की जरूरत होती है।

भारत में ‘अंग दान दिवस’ 27 नवंबर को मनाया जाता है। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार एक व्यक्ति 65 वर्ष तक अपने अंग दान कर सकता है। इस साल की थीम है “let’s pledge to donate organs and save lives” यानी की “अंग दान कर लोगों की जान बचाने का संकल्प लें”।

इसके इतिहास को देखे तो वर्ष 1954 में पहली बार अंगदान किया गया था, उस समय रोनाल्ड ली हेरिक ने अपने भाई को किडनी दान करके नया जीवनदान दिया था। डॉ जोसेफ मरे ने पहली बार किडनी ट्रांसप्लांट किया था। इस मानवीय कार्य हेतु साल 1990 में डॉ जोसेफ मरे को फिजीओलॉजी में नोबेल पुरुष्कर देकर सम्मानित किया गया था।

विश्व अंग दान दिवस मनाने का उद्देश्य है की घायल और गंभीर रूप से बीमार लोगों को अंग दान करके उनकी जान बचाई जाए। किसी व्यक्ति की जान बचाने में अंगदान महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। चिकित्सा विज्ञान ने अंगदान के क्षेत्र में सुधार कर सभी मिथकों को समाप्त कर दिया है।

वर्तमान में लोग अंगदान का महत्व समझकर अंगदान कर रहे है। भारत सरकार द्वारा भी अंगदान के लिए जागरूकता कैम्पैन चलाए जा रहे है।