लैंगिक असमानता को खत्म करने निकलेगी कांवड़ यात्रा 

 

प्रदेश में 26 जुलाई को हरिद्वार हर की पैड़ी से पैदल कांवड़ यात्रा निकलेगी। इस यात्रा का मुख्य उद्देश्य बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का संदेश और लैंगिक असमानता को खत्म करना है। 
महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास मंत्री रेखा आर्य इस यात्रा में मुख्य रूप से शामिल होने वाली है । महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास मंत्री का मानना है की सावन के इस 
पवित्र महीने में एक संदेश उन माता-पिता और समाज को दिया जाए जो लड़कियों को लेकर इस तरह की सोच रखते हैं। इसलिए वह खुद इस यात्रा में शामिल होंगी।
यह 25 किलोमीटर की पैदल यात्रा होगी । इस दिन हरिद्वार में हर की पौड़ी से कांवड में जल भरकर ऋषिकेश स्थित पौराणिक वीरभद्र मंदिर में जलाभिषेक किया जाएगा। 
महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास मंत्री ने कहा कि लैंगिक असमानता को खत्म करने को लेकर सरकार ने संकल्प लिया है।
पंचदशनाम जूना अखाड़ा के मुख्य संरक्षक हरिगिरी जी महाराज द्वारा इस यात्रा का शुभारंभ किया जाएगा ।  यात्रा में प्रदेश के अलग-अलग जिलों से आंगनबाड़ी बहनें एवं खेल विभाग की छात्राएं
भी शामिल होंगे । और साथ ही इस यात्रा का समापन मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी द्वारा  ऋषिकेश स्थित पौराणिक वीरभद्र मंदिर में होगा । सुबह छह बजे गंगा पूजा और महात्माओं के शंखनाद के
साथ अवधेशानंद जी महाराज, राज राजेश्वरानंद, रामदेव, कैलाशानंद, जिले के संगठन से जुड़े लोग, विधायक, जूना अखाड़ा ,आंगनबाड़ी कार्यकर्ता उपस्थित रहेंगे।
साथ ही मंत्री रेखा आर्य ने कहा कि 2025 में हम रजत जयंती मना रहे हैं, तब तक हमें इस लैंगिक असमानता को खत्म करना है। और यह  उम्मीद है 2025 में 1000 बालकों पर 1000 बालिकाओं का आंकड़ा होगा।