दोस्त बने कातिल तीन हजार रुपये के लिए बने हैवान 

दोस्त बने कातिल तीन हजार रुपये के लिए बने हैवान 

तीन दिन पहले राजपाल कश्यप पुत्र श्याम सिंह निवासी कारबारी कश्यप बस्ती ने नया गांव चौकी में तहरीर दी थी । बताया की उनका चचेरा भाई पवन कश्यप नों जुलाई को घर से निकाला था , लेकिन वापस नहीं आया ।
देहरादून में तीन हजार रुपये की लेनदेन के विवाद में दोस्तों ने ही गुमशुदा पवन की गला दबाकर हत्या की थी । शराब के नशे में उन्होंने शव को गड्ढे से दबा दिया था , पुलिस ने हत्या कांड  का खुलासा कर दो आरोपियों को  गिरफ्तार कर लिया । तीन दिन पहले राजपाल कश्यप पुत्र श्याम सिंह निवासी कारबारी  कश्यप बस्ती ने नया गांव चौकी में तहरीर दी थी बताया की उनका चचेरा भाई पवन कश्यप नों जुलाई से घर से निकला था , लेकिन वापस नहीं आया था । पटेल नगर कोतवाली  में पवन की गुमशुदगी दर्ज की गई । इसके बाद उच्च अधिकारियों  के निर्देश पर इन्स्पेक्टर ने पटेल नगर  रविंद्र यादव के नेतृत्व में टीम का गठन किया गया । रविवार को पुलिस कार्यालय   में हत्या कांड का खुलासा करते हुए एसएसपी  दिलीप सिंह कुवर ने बतया की पुलिस टीम ने पीड़ित  परिवार से पूछताछ कर घटनस्तल के आसपास के रास्तों पर लगे 13 सीसीटीवी कैमरे खंगाले ।
                           शराब पीने के बाद हुआ था विवाद 
इंस्पेक्टर रविंद्र यादव ने बताया की  अंकित ,पवन और विक्रम  दोस्त थे   पूछताछ में अंकित ने बताया की  उसकी पवन के साथ तीन हजार की देनदारी थी । घटना के तीन करबारी  के जंगलों
   में गए । वह तीनों ने जमकर शराब पी । इसी दौरान उनकी पवन से झगड़ा हो गया । इसके बाद दोनों ने पवन को गला दबाकर मार हत्या कर दी और पास ही लकड़ी से गट्टा  खोलकर शव दबा दिया ।