जानिए डायबटीस के लिए कड़ी पत्ते के फायदे

कड़ी पत्ता को मीठा नीम का पत्ता भी कहा जाता है, जिसका भारतीय अपने खाने में बहुत प्रयोग करते है। कड़ी पत्ता खाने के स्वाद को बड़ा देता है, कड़ी पत्ता को खासकर दक्षिण भारत में इस्तेमाल किया जाता है। दक्षिण में लगभग हर खाने में इसका प्रयोग होता है। लेकिन क्या आपको पता है कड़ी पत्ता केवल स्वाद के लिए ही नहीं पर शुगर कंट्रोल के लिए भी बहुत लाभदायी है। डायबटीस में ब्लड-शुगर कंट्रोल करना बहुत आवश्यक है , इसके अलावा कड़ी पत्ता पाचन, दिल की सेहत और त्वचा व बालों के लिए भी काफी अच्छा है।

रोजाना कड़ी पत्ता का सेवन करने से काफी हद तक शुगर लेवल को कंट्रोल किया जा सकता है। कड़ी पत्ता कई एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होता है खासकर फ्लेवोनोइड्स से। फ्लेवोनोइड्स शरीर में स्टार्च के ग्लूकोस में मेटाबॉलिज़म को रोकते है और इस तरह ब्लड शुगर के नियंत्रण में मदद करते है।

कड़ी पत्ता इंसुलिन के इस्तेमाल में मदद करता है, इंसुलिन पैन्क्रीआस से उत्पन्न होता है और शरीर में खून द्वारा चीनी को तोड़ता है जिससे शुगर कंट्रोल होता है। यदि हमारा शरीर इंसुलिन बनाना बंद करदे तो उसका परिणाम डायबटीस होता है। कड़ी पत्ता इंसुलिन के इस्तेमाल में मदद करता है। जिससे शुगर का स्तर नियंत्रित रहता है।

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ फार्मास्युटिकल साइंसेस में प्रकाशित एक अध्ययन में लिखा गया है की कड़ी पत्ता में एंटी-हाइपरग्लाईसेमीक गुण होते हैं, जो चूहों के रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित कर सकते है।

फाइबर से भरपूर खाद्य पदार्थ डायबटीस में बहुत फायदेमंद होते है। वे शरीर में शर्करा के अवशोषण को धीमा करने में मदद करते है। इससे रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित किया जा सकता है।