चिकनपॉक्स  को  मंकीपॉक्स न समझ बैठना जाने दोनों में अंतर 

 

बरसात के मौसम में लोगों में वायरल संक्रमण का खतरा अधिक होता है इस दौरान चिकन पॉक्स के मामले बड़े पैमाने पर अन्य संक्रमणों के साथ देखे जाते हैं जिनमें चकत्ते और मतली जैसे लक्षण भी दिखाई देते हैं इस स्थिति के कारण कुछ रोगी भ्रमित हो रहे हैं और चिकन पॉक्स को मंकीपॉक्स समझने की गलती कर रहे हैं
रोगी इसके क्रम और लक्षणों की शुरुआत को समझकर यह निर्धारित कर सकता है कि उसे मंकीपॉक्स है या नहीं 
मंकीपॉक्स और चिकनपॉक्स  में अंतर 
मंकीपॉक्स आमतौर पर बुखार, अस्वस्थता, सिरदर्द, कभी-कभी गले में खराश और खांसी, और लिम्फैडेनोपैथी (लिम्फ नोड्स में सूजन) से शुरू होता है  ये सभी लक्षण त्वचा के घावों, चकत्ते और अन्य समस्याओं से चार दिन पहले दिखाई देते हैं जो मुख्य रूप से हाथ और आंखों से शुरू होते हैं और पूरे शरीर में फैलते हैं 
मंकीपॉक्स में घाव चेचक से बड़े होते हैं  मंकीपॉक्स में हथेलियों और तलवों पर घाव दिखाई देते हैं
चिकनपॉक्स (चेचक) में घाव सात से आठ दिनों के बाद अपने आप सीमित हो जाते हैं लेकिन मंकीपॉक्स में ऐसा नहीं होता है। चिकनपॉक्स में घाव में खुजली महसूस होती है मंकीपॉक्स के घाव में खुजली नहीं होती
इसके संबंध में डॉक्टरों का मानना है की इस तरह के वायरस के लिए एक ‘एनिमल होस्ट’ (वायरस के वाहक जानवर) की आवश्यकता होती है, लेकिन यह गले में खराश, बुखार और सामान्य वायरस के लक्षणों के साथ सीमित रहता है
इस वायरस का मुख्य लक्षण शरीर पर ऐसे चकत्ते होते हैं जिनके अंदर तरल पदार्थ होता है इससे वायरल संक्रमण होता है जो शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को कमजोर करता है  लेकिन, इसकी जटिलता के कारण समस्याएं उत्पन्न होती हैं मामले में, किसी भी तरह के जीवाणु संक्रमण और मवाद होने पर यह बढ़ता जाता है, जिससे शरीर में और जटिलता हो जाती है