केजरिवल सरकार को एलजी ने दिया बड़ा झटका

दिल्ली के उप-राज्यपाल एलजी विनय कुमार सक्सेना ने केजरिवल सरकार को 24 घंटे में लगातार दूर झटका दिया है। एलजी ने दिल्ली सरकार की नई आबकारी नीति को लेकर कड़ा रुख अपना लिया है।

उप राज्यपाल ने आरोप लगाया है की केजरिवल सरकार ने आबकारी नीति के नियमों में अनदेखी की है, इसके लिए उप राज्यपाल ने सीबीआई जांच की सिफारिश की है।

बता दे की जानकारी के मुताबिक एलजी विके सक्सेना ने दिल्ली सरकार की 2021-2022 में नियमों के उल्लंघन और प्रक्रिया गत खामियों को लेकर सीबीआई जांच की सिफारिश की है।

गौरतलब है की इससे पहले एलजी ने केजरिवल को सिंगापूर जाने की अनुमति नहीं दी थी, एलजी ने केजरिवल की सिंगापूर दौरे की प्रस्ताव फाइल को वापस लौटा दिया था।

इसी के साथ एलजी ने केजरिवाल को आठवीं ‘वर्ल्ड सिटी समिट’ और डब्ल्यूसीएस मेयर्स फोरम में शामिल नहीं होने दिया। एलजी ने कहा की यह सम्मेलन मेयरों का है यह मुख्यमंत्री की उपस्थिति उचित नहीं है।

सूत्र के द्वारा खबर के मुताबिक उप राज्यपाल ने सम्मेलन का स्वरूप और उसमें शामिल होने वाले लोगों की प्रोफाइल और सम्मेलन में विचार विमर्श किया और फिर यह नतीजा निकाला ।

उन्होंने इसमें पाया की यह सम्मेलन शहरी शासन के विभिन्न पहलुओं पर विचार करने के लिए है, जिनसे संबंधित कार्य दिल्ली के विभिन्न नगर निकायों द्वारा कीये जाते है।

इसलिए मुख्यमंत्री का इसमें शामिल होना उचित नहीं है। हालाँकि इसमें मुख्यमंत्री केजरिवल ने असहमति जताई है।