कल पूरे प्रदेश के लाखो फार्मेसिस्ट मनाएंगे ‘ फार्मेसिस्ट अधिकार दिवस ‘

कल पूरे प्रदेश के लाखो फार्मेसिस्ट मनाएंगे ‘ फार्मेसिस्ट अधिकार दिवस ‘

के न्यूज़, मनीष श्रीवास्तव
लखनऊ
यूथ फार्मेसिस्ट फेडरेशन, उत्तर प्रदेश,’ प्रदेश में पंजीकृत डिप्लोमा, बैचलर फार्मेसी, मास्टर फार्मेसी, पीएचडी फार्मेसी, डॉक्टर ऑफ फार्मेसी एवं समस्त विधाओं के फार्मेसिस्टो का संयुक्त परिसंघ के आह्वान पर 9 जनवरी को ‘ फार्मेसिस्ट अधिकार दिवस ‘ पूरे प्रदेश में मनाया जायेगा । जिसमें प्रदेश के लाखो फार्मेसिस्टों, शिक्षकों एवं फार्मेसी छात्र भागीदारी करेंगे । जानकारी देते हुए फेडरेशन के अध्यक्ष सुनील यादव ने बताया कि विभिन्न जनपदों में आयोजित कार्यक्रमों में फार्मेसी व्यवसाय के महत्व को बढ़ाने, रोजगार सृजन सहित अनेक सामयिक बिंदुओं पर गंभीर चर्चा की जाएगी, प्रस्ताव पारित कर मुख्यमंत्री को प्रेषित किया जाएगा ।
फार्मेसिस्ट अधिकार दिवस के दिन प्रत्येक जनपद में इन मुख्य बिंदुओं/अधिकारो पर चर्चा की जाएगी और शासन को ज्ञापन भेजा जाएगा ।

मुख्य बिंदुओं में जिला और महिला अस्पतालों को मेडिकल कॉलेज बनाए जाते समय वहां के चिकित्सालय को संबद्ध कर दिया जाए और कर्मचारियों को वही बने रहने दिया जाए, यदि फार्मेसिस्टों को मेडिकल कॉलेज से कार्यमुक्त किया जाता है तो उन्हें पद सहित रिलीव किया जाए …

नेशनल हेल्थ पॉलिसी के पैरा 3.3.1 और 11.4 के अनुसार सी एच ओ के पदों पर फार्मेसिस्टों की भी तैनाती की जाए …

फार्मेसिस्टों की योग्यता के अनुसार कुछ अन्य राज्यों की भांति उत्तर प्रदेश में भी कुछ दवाएं लिखने का अधिकार दिया जाए …..

वेटनरी फार्मेसिस्ट सेवा नियमावली प्रख्यापित कर शासनदेशानुसार फार्मेसिस्ट की नियुक्तियां की जाएं ……

अधीनस्थ सेवा चयन बोर्ड द्वारा चयनित होम्योपैथ फार्मेसिस्टों की तत्काल नियुक्तियां की जाएं …

आयुर्वेद की दवाओं का भंडारण वितरण के लिए भी फार्मेसिस्ट की अनिवार्यता की जाए….

दवा कंपनियों में केमिस्ट के पद पर केवल फार्मेसिस्ट की नियुक्तियां अनिवार्य की जाएं…..

मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव के लिए फार्मेसिस्ट को वरीयता मिले….

फार्मेसी शिक्षको का न्यूनतम वेतन निर्धारण सरकारी शिक्षको के समान किया जाए….

मेडिकल स्टोरों पर फार्मेसिस्ट का न्यूनतम मानदेय निर्धारित किया जाए ।