पद्मश्री सम्मानित डॉक्टर का रद्द हुआ लाइसेंस

साल 2020 में पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा पद्मश्री से सम्मानित किये जाने वाले मशहूर प्लास्टिक सर्जन डॉक्टर योगी ऐरन का लाइसेंस उत्तराखंड मेडिकल काउंसिल ने तीन महीने के लिए रद्द कर दिया व साथ ही साथ उनके बेटे कुश ऐरन जो की खुद एक डॉक्टर है को काउंसिल ने चेतावनी जारी करी व डॉ योगी को पंजीकरण जमा करने की सक्त आदेश जारी किये दरअसल यह पूरा मामला नीता थापा के कारण उजागर हुआ नीता ने डॉ योगी पर आरोप लगाते हुए कहा इ डॉ ने उनके माथे से नाक का सर्जरी करने की इजाजत के बिना त्वचा का एक हिस्सा लिया जिसके बाद से ही उन्हें अपने ऊपरी होंठ पर मध्यम आकार का मस्सा देखने को मिल रहा है महिला के आरोपों के बाद डॉ योगी ने बचाव में महिला के आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए बताया की महिला अवसाद से जूझ रही है महिला की शिकायत के बाद मेडिकल काउंसिल ने एक जांच कमेटी बनाई थी जिसमें पाया गया की इलाज मे सही मानदंडों का पालन नहीं हुआ फिलहाल काउंसिल ने डॉ योगी का लाइसेंस तीन माह के लिए रद्द कर दिया है व पूछताछ भी जारी है .