साईकिलें ले गया कौन 

के न्यूज़ की खबर का बड़ा असर

विकासनगर के लखनवाला में खेतो में जंक खाती हजारों साईकिलों को अब वहां से हटा दिया गया है.साईकिलें किसने उठवाई इसकी किसी को जानकारी नहीं है.आपको बता दें कि आपके पसंदीदा चेनल के न्यूज ने जब इन जंग खाती साईकिलों का मुद्दा प्रमुख्ता के साथ उठाया तो आनान फानन में इन सभी साईकिलों को उठा दिया गया लेकिन मजे की बात देखिए की आखिर साईकिलें कोन ले गया, किस विभाग की ये साईकिलें है कि इसका जवाब अधिकारियों के पास नहीं है.इनसबके बीच सभी साईकिलें ट्रॉली में भरकर वहां से ले जा ली गई है.जिसे श्रमिकों को बांटा जाना था वहीं इस मामले में विकासनगर एसडीएम सौरभ असवाल का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है.आगे रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई की जाएगी सवाल ये है कि जनता के टैक्स की इस तरह से बर्बादी करने वालों पर कार्रवाई कब होगी रिपोर्ट देखिए

विकासनगर के लखनवाला में खेतो में जंक खाती हजारों साईकिलों को अब वहां से हटा दिया गया है साईकिलें किसने उठवाई इसकी किसी को जानकारी नहीं है आपके पसंदीदा चेनल के न्यूज ने जब इन जंग खाती साईकिलों का मुद्दा उठाया तो आनान फानन में इनको उठा दिया गया लेकिन मजे की बात देखिए की आखिर साईकिलें कोन ले गया इसका जवाब अधिकारियों के पास नहीं है..लेकिन सभी साईकिलें ट्रॉली में भरकर वहां से ले जाई गई है.जिसे श्रमिकों को बांटा जाना था.वहीं इस मामले में विकासनगर एसडीएम सौरभ असवाल का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है आगे रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई की जाएगी

 वहीं इस मामले में सियासत भी तेज हो गई है.कांग्रेस नेता शम्मी प्रकाश ने इस मामले की उच्चस्तरीय जांच की मांग की है साथ ही उन्होने साइकिलों के साथ टूल किट व राशन किट में भी भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है जो कि श्रमिकों को दी जानी थी.वहीं आम आदमी पार्टी ने भी सरकार से जांच की मांग करते हुए सरकार पर हमला बोला है जबकि बीजेपी ने इन सभी आरोपों को निराधार बताया है

कुल मिलाकर समय रहते इन साईकिलों को श्रमिकों को बांटा जाता तो जनता के टैक्स की गाड़ी कमाई का सदुपयोग होता लेकिन पिछले दो साल से लखनवाला के खेतों में इन साईकिलों को सड़ने के लिए छोड़ दिया गया.ये अधिकारियों की ही लापरवाही का नतीजा है कि प्लॉट में रखी करीब 5 हजार साईकिलें जंक खाकर खराब हो गई जो कि चिंता की बात है ऐसे में देखना होगा कि क्या राज्य सरकार की ओर से इस मामले की जांच कराई जाती है.क्या दोषियों पर कार्रवाई होती है या नहीं ऐसे अगनिगनत सवाल है जिसके जबाव का सबको इंतजार है

देहरादून से के न्यूज इंडिया के लिए राजेश वर्मा  की रिपोर्ट