पुलिस कमिश्नर असीम अरूण ने छोड़ी नौकरी,  अब नेता बनकर करेंगे जनता की सेवा

स्वैच्छिक वीआरएस ले, ज्वाईन की बीजेपी

कानपुर- जनपद के पुलिस कमिश्नर असीम अरूण ने अब नेता बनकर जनता की सेवा करने का फैसला किया है। सूत्रों से मिली खबर के मुताबिक एक लम्बे वक्त तक पुलिस विभाग में रहकर जनता की सेवा करने वाले कानपुर के पुलिस कमिश्नर असीम अरूण ने अब नौकरी छोड़कर नेता बनने का फैसला किया है। इसके वो अब स्वैच्छिक वीआरएस लेंगे। उनके अपने पैतृक इलाके कानपुर से विधानसभा चुनाव लड़ने का ऐलान किया है।

सोशल मीडिया पर लिखा भावुक पोस्ट

सूत्र बताते हैं कि अपने स्वैच्छिक रिटायरमेंट और बीजेपी से चुनाव लड़ने कयासों के बीच सोशल मीडिया पर उन्होने एक भावुक पोस्ट लिखा उन्होने लिखा कि….प्रिय मित्रों आपको यह अवगत कराना चाहता हूं कि मैंने वीआरएस (ऐच्छिक सेवानिवृत्ति )के लिए आवेदन किया है क्योंकि अब राष्ट्र और समाज की सेवा एक नए रूप में करना चाहता हूं। मैं बहुत गौरवान्वित अनुभव कर रहा हूं कि माननीय योगी आदित्यनाथ जी ने मुझे भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता के योग्य समझा।  मैं प्रयास करूंगा कि पुलिस बलों के संगठन के अनुभव और सिस्टम विकसित करने के कौशल से पार्टी को अपनी सेवाएं दूं और पार्टी में विविध अनुभव के व्यक्तियों को शामिल करने की माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की पहल को सार्थक बनाऊं। मैं प्रयास करूंगा की महात्मा गांधी द्वारा दिए ”तिलस्म” कि सबसे कमजोर और गरीब व्यक्ति के हितार्थ हमेशा कार्य करूं। आईपीएस की नौकरी और अब यह सम्मान, सब बाबा साहेब अम्बेडकर द्वारा ”अवसर की समानता” के लिए रचित व्यवस्था के कारण ही सम्भव है। मैं उनके उच्च आदर्शों का अनुसरण करते हुए अनुसूचित जाति और जनजाति एवं सभी वर्गों के भाइयों और बहनों के सम्मान, सुरक्षा और उत्थान के लिए कार्य करूंगा। मैं समझता हूं कि यह सम्मान मुझे मेरे पिता जी स्व. श्रीराम अरुण जी एवं माता जी स्व. शशि अरुण जी के पुण्य कर्मों के प्रताप के कारण ही मिल रहा है। उनकी पुण्य आत्माओं को शत शत नमन।