मैनपुरी विजय यात्रा में क्या साथ नजर नहीं आएंगे अखिलेश- शिवपाल, गठबंधन में सीटों को लेकर फस पेंच

लखनऊ। समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) की आठवें चरण की विजय यात्रा आज मैनपुरी से शुरू होगी. इस दौरान सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) क्रिश्चियन मैदान में एक जनसभा को संबोधित करेंगे. बुंदेलखंड और पूर्वाचल के बाद अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) अब अपने गढ़ में इस यात्रा के जरिए हुंकार कर सपा के पक्ष में माहौल बनाएंगे. लेकिन चाचा शिवपाल यादव (Shivpal Yadav) आज अखिलेश के साथ नहीं होंगे.

क्यों शिवपाल आज नहीं हैं अखिलेश के साथ

गठबंधन को लेकर अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) और शिवपाल यादव (Shivpal Yadav) में पेंच अब भी फंसा है. आज अखिलेश यादव अपने गढ़ में चुनाव प्रचार कर रहे हैं. चाचा शिवपाल यादव को भी उनके साथ होना था लेकिन ऐसा न हो सका. इसके पीछे की वजह ये बताई जा रही है कि हाथ तो मिले पर दिल अभी मिलने बाकी हैं.

शिवपाल यादव तो समाजवादी पार्टी में अपनी पार्टी के विलय तक की बात कर चुके हैं लेकिन उनके कितने लोगों को टिकट मिलेगा इस पर विवाद बना हुआ है. अखिलेश यादव की तरफ से तो उनके बेटे अंकुर यादव तक को टिकट न देने की बात कही गई है. कहा गया है कि जब राज्य में सरकार बनेगी तो उन्हें ऐडजस्ट कर लिया जाएगा.

शिवपाल ने अपने समर्थकों की लंबी लिस्ट भेजी है जिनके लिए वे टिकट चाहते हैं लेकिन अखिलेश तीन चार से अधिक सीटें देने को तैयार नहीं हैं. वैसे तो पिछले लोकसभा चुनाव में शिवपाल के अलग रहने से समाजवादी पार्टी कन्नौज, फिरोज़ाबाद और बदायूं जैसी सीटें भी हार गई थी.