Vijay Diwas 2021: विजय दिवस की 50वीं वर्षगांठ आज, बहादुर सैनिकों के शौर्य को किया गया याद

16 दिसंबर 1971 में आज ही के दिन भारत ने आधिकारिक तौर से पाकिस्तान पर विजय की घोषणा की थी. ये ऐतिहासिक जीत की खुशी आज भी हर देशवासी के मन को उमंग से भर देती है। इस दिन को हमलोग विजय दिवस के रूप में मनाते हैं। 16 दिसंबर का दिन सैनिकों के शौर्य को सलाम करने का दिन है।

सशस्त्र बलों के वीरों द्वारा महान वीरता और बलिदान को याद करता हूं- पीएम मोदी

विजय दिवस की 50वीं वर्षगांठ पर पीएम मोदी ने वीरों को नमन किया। उन्होंने कहा कि मैं मुक्तिजोद्धों, वीरांगनाओं और भारतीय सशस्त्र बलों के वीरों द्वारा महान वीरता और बलिदान को याद करता हूं। हमने साथ मिलकर दमनकारी ताकतों से लड़ाई लड़ीं और उन्हें हराया। बांग्लादेश में राष्ट्रपति कोविंद की उपस्थिति प्रत्येक भारतीय के लिए विशेष महत्व रखती है।

सैन्य इतिहास का स्वर्णिम अध्याय- राजनाथ सिंह

राजनाथ सिंह ने कहा, ‘स्वर्णिम विजय दिवस के अवसर पर हम 1971 के युद्ध के दौरान अपने सशस्त्र बलों के साहस और बलिदान को याद करते हैं. 1971 का युद्ध भारत के सैन्य इतिहास का स्वर्णिम अध्याय है. हमें अपने सशस्त्र बलों और उनकी उपलब्धियों पर गर्व है.’

सैनिकों के अद्भुत साहस व पराक्रम के प्रतीक विजय दिवस- अमित शाह

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा, ‘भारतीय सैनिकों के अद्भुत साहस व पराक्रम के प्रतीक विजय दिवस की स्वर्ण जयंती पर वीर सैनिकों को नमन करता हूं. 1971 में आज ही के दिन भारतीय सेना ने दुश्मनों पर विजय कर मानवीय मूल्यों के संरक्षण की परंपरा के इतिहास में एक स्वर्णिम अध्याय जोड़ा था.’

अद्वितीय पराक्रम व साहस को नमन- पीयूष गोयल

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कहा, ‘1971 के युद्ध में भारत की पाकिस्तान पर ऐतिहासिक जीत के उपलक्ष्य में विजय दिवस की 50 वीं वर्षगांठ पर सभी देशवासियों को हार्दिक बधाई. भारतीय सेना के अद्वितीय पराक्रम व साहस को नमन कर, उन वीर सपूतों को स्मरण करता हूं जिन्होंने अपना सर्वस्व अर्पण कर देश का गौरव बढ़ाया.’