विधानसभा के सामने दो युवकों ने किया आत्मदाह का प्रयास, दारोगा लाइन हाजिर

लखनऊ: युवकों ने मोहनलालगंज कोतवाली में चार ट्रकों को छोड़ने के नाम पर 3 लाख रुपया मांगने का आरोप लगाया है. मध्य जोन की पुलिस ने मोहनलालगंज पुलिस को सूचना देने के साथ ही इस मामले में आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है. इस मामले में मोहनलालगंज के दारोगा को लाइन हाजिर कर दिया गया है.

डंपरों को छोड़ने के एवज में दारोगा ने मांगे रुपये

जानकारी के मुताबिक, हजरतगंज के विधानसभा के सामने मंगलवार दोपहर को मोहनलालगंज से दो युवक मिलन सिंह और हरिराम ऑटो से आए. जब तक कोई कुछ समझ पाता दोनों ने अपने ऊपर डीजल ऑयल डाल लिया और खुद को आग लगाने का प्रयास किया. तभी सेफ जोन में तैनात पुलिसकर्मियों ने दोनों को ऐसा करने से रोका और पुलिस दोनों को पकड़कर थाने ले आई. युवकों का कहना है कि मोहनलालगंज इलाके में उनके एक कंपनी में चार डंपर किराए पर चलते हैं. आरोप है कि 4 दिसंबर को मोहनलालगंज पुलिस ने उनके चारों डंपर को थाने ले जाकर जबरन बंद कर दिया है.

इंस्पेक्टर के द्वारा मांगी गई रकम

इतना ही नहीं मोहनलालगंज पुलिस के द्वारा उनके डंपरों की रिपोर्ट भी खनन को नहीं भेजी जा रही है. पीड़ित शिव मिलन और हरिराम का आरोप है कि मोहनलालगंज कोतवाली में तैनात इंस्पेक्टर महेश कुमार दुबे इन डंपरों को छोड़ने के एवज में उनसे तीन लाख रुपये की मांग कर रहे हैं. इंस्पेक्टर के द्वारा मांगी गई रकम उनके द्वारा न देने पर डंपर न छोड़ने की बात कही गई है, जिससे थक हारकर दोनों ने इस तरह का कदम उठाया है.

आरोपी दारोगा लाइन हाजिर

एसीपी हजरतगंज अखिलेश कुमार सिंह ने बताया कि प्रयागराज के हंडिया थाना क्षेत्र के रहने वाले शिव मिलन सिंह और राजस्थान जोधपुर के रहने वाले हरिराम ने विधानसभा के सामने खुद पर डीजल ऑयल डालकर आत्मदाह का प्रयास किया था. आरोप है कि दोनों के डंपर 4 दिसंबर को मोहनलालगंज कोतवाली में बंद किए गए थे, जिसकी रिपोर्ट खनन विभाग को नहीं भेजी जा रही थी. दोनों युवक ऑटो से विधानसभा के पास पहुंचे थे.