टमाटर के बाद अब प्याज का नंबर, एक महीने में दाम डबल

पेट्रोल, डीजल और गैस के साथ-साथ अब टमाटर और प्याज की कीमतें भी आसमान छू रही हैं। टमाटर की महंगाई से देश की आम जनता परेशान है, अब प्याज की कीमतें भी रुलाने की तैयारी कर रही हैं। पिछले एक महीने में थोक बाजार में प्याज कीमतें दोगुनी हो गई हैं।

लगातार बढ़ रहे दाम 

महाराष्ट्र के प्रमुख उत्पादक क्षेत्र लासलगांव में प्याज की थोक कीमत एक महीने में ही करीब दोगुना बढ़कर 33,400 रुपये प्रति टन तक पहुंच गई है। मुंबई में प्याज की खुदरा कीमत भी 50 रुपये प्रति किलो से ऊपर हो गई है। प्याज का निर्यात अभी खुला हुआ है, लेकिन अगर कीमतें इसी तरह बढ़ती रहीं तो सरकार फिर निर्यात पर रोक लगा सकती है।

टमाटर 93 रुपये किलो तक पहुंचा

देश के प्याज उत्पादक कई इलाकों में भारी बारिश की वजह से प्याज की गर्मियों की फसल को भारी नुकसान हुआ है और जाड़े के फसल की बुवाई में देरी हुई है। गौरतलब है कि इसके पहले टमाटर की कीमतों के काफी बढ़ने की खबर आई थी। कोलकाता में तो खुदरा बाजार में टमाटर 93 रुपये किलो तक पहुंच गया।

कीमतों इजाफे की असली वजह क्या है? 

इस बार सितंबर के अंत में कई राज्यों में बारिश हुई है। जिसकी वजह से सब्जी की खेती पर बुरा असर पड़ा है। वहीं, कीमतों में तेजी की दूसरी वजह पेट्रोल और डीजल की कीमतों में इजाफा होना भी है। तेल की कीमतें बढ़ने से ट्रांसपोर्ट का खर्चा बढ़ गया है। जिसका असर आपकी जेब पर अब पड़ रहा है।