अयोध्या के विकास कार्यों पर पीएम मोदी ने की समीक्षा, कहा इसमें दिखनी चाहिए भारतीय परंपराओं की झलक

पीएम मोदी ने अयोध्या में चल रहें विकास कार्यों की विडियों कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मीटिंग ली. इस मीटिंग में उत्तर प्रदेश के सीएम डिप्टी सीएम और प्रदेश के कई बड़े अधिकारी शामिल थे.

दरअसल अयोध्या के विजन डॉक्यूमेंट को लेकर मोदी सरकार ने मीटिंग ली. इस मीटिंग में अयोध्या के विकास कार्यों का विजन डॉक्यूमेंट रखा गया. इस विषय पर लगभग डेढ़ घंटे तक चर्चा की गई.

पीएम मोदी में विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कहा कि अयोध्या का इतनी अच्छी तरह से विकास किया जाए कि पूरी जिंदगी में लोग कम से कम एक बार जरुर यहां आने की इच्छा करें. यह हर भारतीय की चेतना में बसा है. यह एक आध्यात्मिक शहर है इसलिए इसके भविष्य का ढांचा ऐसा होना चाहिए जो पर्यटकों और तीर्थयात्रियों के साथ-साथ सभी के लिए फायदेमंद हो. इसके विकास कार्यों में देरी नहीं करनी चाहिए. इसमें भारतीय परंपराओं की झलक दिखनी चाहिए.

इसके अलावा उन्होने कहा कि अयोध्या के विकास कार्यों में जनभागीदारी होनी चाहिए जिस तरह से भगवान राम को थी. शहर के विकास में ज्यादा से ज्यादा युवाओं के कौशल का लाभ लें.

गौरतलब है कि इस मीटिंग में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ, दोनों डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य और दिनेश शर्मा समेत कई अधिकारी सीएम हाउस से ही जुड़े. इनके अलावा वित्त मंत्री, नगर विकास मंत्री समेत कई अधिकारियों ने हिस्सा लिया.

बता दें कि, अयोध्या के विकास का जो खांका तैयार किया गया है, वो अगले 100 साल की जरूरतों के हिसाब से तैयार किया गया है. इसके लिए डेवलपमेंट अथॉरिटी ने 20 हजार करोड़ के प्रोजेक्ट तैयार किए हैं.