महिला विरोधी सोच के खिलाफ, मुंबई पुलिस ने लगाई बॉलीवुड की डायलॉग क्लास

मुंबई पुलिस ने महिला विरोधी सोच के खिलाफ सोशल मीडिया पर अभियान चलाया है। इस बार मुंबई पुलिस के आधिकारिक इंस्टाग्राम हैंडल से बॉलीवुड की कई फिल्मों के सीन शेयर किए गए। उन्होंने बताया कि कैसे इन फिल्मों के सीन और डायलॉग महिला विरोधी हैं, जिन्हें नॉर्मलाइज कर दिया जाता है।  ये कंटेंट युवाओं की सोच पर भी गहरा असर डालता है। इसके साथ मुंबई पुलिस ने मैसेज दिया है कि महिला विरोधी Misogyny या महिला विरोधी बातों को नॉर्मल तरह से देखना बंद करें वरना आपको कानून का सामना भी करना पड़ सकता है।

सिनेमा हमारे समाज का आईना होता है 

मुंबई पुलिस ने अपने पोस्ट में लिखा- ‘सिनेमा हमारे साइज का आईना होता है। यहां बस कुछ डायलॉग हैं जिस पर हमारे समाज और सिनेमा दोनों को विचार करने की जरूरत है। अपने शब्दों और एक्शन को सावधानी के साथ चुनें।‘अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो कानून को इसमें दखल देना पड़ेगा.” अपने शब्दों और एक्शन को सावधानी के साथ चुनें, वरना आपको कानून का सामना भी करना पड़ सकता है.‘ इसके साथ पोस्ट में #LetsNotNormaliseMisogyny, #MindYourLanguage, #WomenSafety जैसे हैशटैग का इस्तेमाल भी किया गया है।

ये हैं दो डायलॉग

मुंबई पुलिस ने फिल्मों के पोस्टर शेयर किए हैं। ‘कबीर सिंह’ अकेली फिल्म है जिसका दो बार जिक्र है। पहले सीन में कबीर सिंह अपनी गर्लफ्रेंड से कहता है, ‘प्रीति चुन्नी ठीक करो।‘ कबीर सिंह का एक अन्य डायलॉग है, जहां वह कहता है, ‘वो मेरी बंदी है।‘ ‘कबीर सिंह’ के अलावा जिन फिल्मों के सीन पर आपत्ति है उनमें ‘हम तुम्हारे हैं सनम’, ‘मालामाल’, ‘दिल धड़कने दो’, ‘दबंग’, ‘चश्मे बद्दूर’ और ‘उजड़ा चमन’ शामिल है।