आज है आश्विन कृष्ण नवमी तिथि, रखें इन बातों का ध्यान

आज गुरुवार, आश्विन कृष्ण नवमी तिथि है।
आज पुनर्वसु नक्षत्र, “आनन्द” नाम संवत् 2078 है

आज का पंचांग

शुक्ल पक्ष नवमी

नक्षत्र:पुनर्वसु

आज का दिशाशूल:दक्षिण दिशा

आज का राहुकाल: 1:45 PM – 3:14 PM

सूर्य और चंद्रमा का समय

सूर्योदय – 6:22 AM

सूर्यास्त – 6:11 PM

चन्द्रोदय – 30 सितंबर 12:08 AM

चन्द्रास्त – 30 सितंबर 2:12 PM

शुभ काल

अभिजीत मुहूर्त – 11:53 AM – 12:40 PM

अमृत काल – 10:56 P M – 12:41 AM

ब्रह्म मुहूर्त – 04:45 AM – 05:33 AM

योग

परिघ -29 सितंबर 06:34 PM– 30 सितंबर 06:53 PM

शिव -30 सितंबर 06:53 PM– 01 अक्टूबर 06:38 PM

सर्वार्थसिद्धि योग – 30 सितंबर 06:22 AM – 01 अक्टूबर 01:33 AM

अमृतसिद्धि योग – 01 अक्टूबर 01:33 AM – 01 अक्टूबर 06:22 AM

गुरू पुष्य योग -01 अक्टूबर 01:33 AM – 01अक्टूबर 06:22 AM

इन बातों का रखें ध्यान

  • आज नवमी तिथि का श्राद्ध है। आज मातृ नवमी है।
  • जिन सौभाग्यवती स्त्रियों की मृत्यु तिथि ज्ञात नहीं है, उनका आज के दिन श्राद्ध होता है।
  • मृतकों के आवागमन का रहस्य तो उत्कृष्ट तपोबल सम्पन्न तपस्वी भी नहीं जान सकते हैं।
  • चॉंदी को देव कार्य में दूर रखना चाहिए। देव कार्य में इसे अशुभ माना गया है।
  • चॉंदी शिवजी के नेत्र से उद्भूत हुई है, इसलिए यह पितरों को परम प्रिय है।
  • मृत्यु तिथि पर श्राद्ध नहीं कर श्राद्ध पक्ष में श्राद्ध करने वाले को कोई फल नहीं मिलता है। इसलिए मृत्यु तिथि पर श्राद्ध करना आवश्यक है।
  • यदि मृत्यु तिथि ज्ञात है तो तिथि पर श्राद्ध करना चाहिए।
  • इस पृथ्वी पर किसी भी मानव शरीर में कोई भी देवी – देवता प्रवेश नहीं करते हैं।
  • मानव शरीर में प्रवेश करने वाले भूत – प्रेत ही होते हैं, जो देवी – देवताओं के नाम पर क्रीड़ा करते हैं।
  • श्राद्ध कर्म करने और ब्राह्मण भोजन का समय प्रातः 11:36 बजे से 12: 24 बजे तक का है।
  • इस समय को कुतप वेला कहते हैं। उक्त समय मुख्य रूप से श्राद्ध के लिए प्रशस्त है।