आज है आश्विन कृष्ण अष्टमी तिथि, रखें इन बातों का ध्यान

आज बुधवार, आश्विन कृष्ण अष्टमी तिथि है।

आज आर्द्रा नक्षत्र, “आनन्द” नाम संवत् 2078 है

आज का पंचांग

शुक्ल पक्ष अष्टमी

नक्षत्र: आद्रा

मध्य अष्टमी

बुधाष्टमी व्रत

कालाष्टमी

आज का दिशाशूल:उत्तर दिशा

आज का राहुकाल: 12:17 PM – 1:45 PM

सूर्य और चंद्रमा का समय

सूर्योदय – 6:21 AM

सूर्यास्त – 6:12 PM

चन्द्रोदय – Sep 30 12:08 AM

चन्द्रास्त – Sep 29 1:22 PM

शुभ काल

अभिजीत मुहूर्त – Nil

अमृत काल – 12:18 PM – 02:05 PM

ब्रह्म मुहूर्त – 04:45 AM – 05:33 AM

योग

वरीयान – Sep 28 05:50 PM – Sep 29 06:34 PM

परिघ – Sep 29 06:34 PM – Sep 30 06:53 PM

रखें इन बातों का ध्यान

-आज अशोकाष्टमी, बुधाष्टमी, जीवित्पुत्रिका व्रत है।
-आज की अष्टमी का व्रत पुत्र की जीवन रक्षा के उद्देश्य से किया जाता है।
-मकई, काला उड़द, विप्रूषि, मसूर, लहसुन गाजर, प्याज, मूली, बैंगन, सत्तू, गान्धारिक, लौकी, लाल गोंद श्राद्ध में निषेध है।
-“मुझे श्राद्ध के लिए दूध दो” – यह कहकर लाया हुआ दूध भी श्राद्ध कर्म में ग्रहण करने योग्य नहीं है।
-श्राद्ध के दौरान पितरों का नाम, गोत्र, काल और देश का उच्चारण संकल्प में अवश्य करना चाहिए।
-मघा नक्षत्र की त्रयोदशी तिथि को शहद और घी से मिश्रित खीर की आहुति देने से पितृ प्रसन्न और पूर्ण तृप्त होते हैं।
-उदय और अस्त के समय सूर्य मण्डल का दर्शन नहीं करना चाहिए।
-श्राद्ध कर्म करने और ब्राह्मण भोजन का समय प्रातः 11:36 बजे से 12: 24 बजे तक का है।
-इस समय को कुतप वेला कहते हैं। उक्त समय मुख्य रूप से श्राद्ध के लिए प्रशस्त है।