आज है आश्विन कृष्ण षष्ठी/सप्तमी तिथि, रखें इन बातों का ध्यान

आज सोमवार, आश्विन कृष्ण षष्ठी/सप्तमी तिथि है।

आज रोहिणी नक्षत्र, “आनन्द” नाम संवत् 2078 है

आज का दिशाशूल : पूर्व दिशा

आज का राहुकाल : 7:50 AM – 9:19 AM

सूर्य और चंद्रमा का समय

सूर्योदय – 6:21 AM

सूर्यास्त – 6:14 PM

चन्द्रोदय – Sep 27 10:30 PM

चन्द्रास्त – Sep 28 12:30 PM

शुभ काल

अभिजीत मुहूर्त – 11:54 AM – 12:41 PM

अमृत काल – 02:04 PM – 03:53 PM

ब्रह्म मुहूर्त – 04:44 AM – 05:32 AM

योग

सिद्धि – Sep 26 03:48 PM – Sep 27 04:51 PM

व्यातीपात – Sep 27 04:51 PM – Sep 28 05:50 PM

सर्वार्थसिद्धि योग – Sep 27 06:21 AM – Sep 27 05:41 PM

अमृतसिद्धि योग – Sep 27 05:41 PM – Sep 28 06:21 AM

सर्वार्थसिद्धि योग – Sep 27 05:41 PM – Sep 05:41 PM

रखें इन का बातों का धयान

  • आज षष्ठी तिथि की व्याप्ति कम है। आवश्यक हो तो षष्ठी तिथि का श्राद्ध कर सकते हैं।
  • श्राद्ध में ब्राह्मण को भोजन कराना आवश्यक है। ब्राह्मण हीन श्राद्ध निष्फल हो जाता है।
  • श्राद्ध में तुलसी पत्रों का भी अत्यधिक महत्त्व है।
  • श्राद्ध में पितरों की पसन्द का ही भोजन बनना चाहिए। पितृ दूध, दही, घी, शहद से अत्यधिक प्रसन्न होते हैं।
  • शास्त्र विधि के अनुसार ही श्राद्ध करना चाहिए। श्राद्ध में लौकिक परम्परा लागू नहीं होती है।
  • श्राद्ध के दिन पितृ गायत्री का पाठ करना चाहिए।
  • वृष यानि सांड को छोड़ने के दौरान उस पर मात्र चन्दन से त्रिशूल या चक्र अंकित कर देना चाहिए। दागने की आवश्यकता नहीं है।
  • पति तथा पुत्र वाली सौभाग्यवती स्त्री पति के पूर्व मृत्यु को प्राप्त हो जाए तो उसके निमित्त वृषोत्सर्ग न करें, बल्कि दूध देने वाली गाय का दान करना चाहिए।
  • श्राद्ध कर्म करने और ब्राह्मण भोजन का समय प्रातः 11:36 बजे से 12: 24 बजे तक का है।
    इस समय को कुतप वेला कहते हैं। उक्त समय मुख्य रूप से श्राद्ध के लिए प्रशस्त है।