शर्लिन का शिल्पा शेट्टी पर कटाक्ष, कहा ‘पॉर्न की दुनिया से बाहर निकलो’ लोग करेंगे साष्टांग दंडवत !

मॉडल और एक्ट्रेस शर्लिन चोपड़ा  राज कुंद्रा के खिलाफ दर्ज हुए पोर्नोग्राफी केस  में लगातार बयान दे रही हैं। शिल्पा शेट्टी के पति राज कुंद्रा के खिलाफ बयान देने से लेकर शिल्पा शेट्टी पर निशाना साधने तक, शर्ल‍िन ने चर्चा की है. एक बार फिर शर्ल‍िन ने शिल्पा हाल ही में एक्ट्रेस ने बिजनेसमैन की पत्नी शिल्पा शेट्टी पर निशाना साधा था। वहीं, शर्लिन को दोबारा शिल्पा पर आक्रामक होते देखा गया है। एक्ट्रेस ने उनपर धावा बोलते हुए कहा है,’उन्हें अपने बंगले और पोर्न की दुनिया से निकलकर कुछ करना चाहिए।

शर्लिन चोपड़ा ने बोला   

शर्लिन चोपड़ा ने शिल्पा शेट्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि,’वो अगर रील लाइफ में लोगों के प्रति सहानुभूति दिखाने के बजाय रियल लाइफ में पीड़ित महिलाओं और बच्चों के लिए कुछ करेंगी तो पूरी दुनिया उन्हें साष्टांग प्रणाम करेगी।’ दरअसल, शर्लिन चोपड़ा ने अपने ट्विटर अकाउंट पर अपने एक इंटरव्यू का शॉर्ट वीडियो साझा किया है। जिसमें वो कह रही हैं,’खुद के लिए बंगला बनाना, खुद के लिए गाड़ी खरीदना एक हद तक अच्छा है। लेकिन गाड़ी, बंगला खरीदने के बाद क्या? पॉर्न बनाएं? नहीं। और भी बहुत कुछ है देश के लिए करने को। कुछ करना चाहती हूं मैं देश के लिए।

पॉर्न की दुनिया से बाहर निकलकर कुछ कीजिए

शर्लिन ने आगे कहा,’मैं अपनी लाइफ में कुछ अलग करना चाहती हूं। आगे चलकर पीड़ित महिलाओं और बच्चों के लिए कुछ करना चाहती हूं। मंच पर जाकर बैठकर साष्टांग प्रणाम करना, रानी लक्ष्मीबाई जी के बारे में बात करना बहुत आसान होता है। आप रियल लाइफ में कुछ कीजिए। अपने बंगले से बाहर निकलकर कुछ कीजिए। पॉर्न की दुनिया से बाहर निकलकर कुछ कीजिए। फिर देखिए सारी दुनिया आपको साष्टांग दंडवत प्रणाम करेगी।’

 

पहले भी शर्लिन उठा चुकीं है उंगली   

बीते दिनों भी शर्लिन चोपड़ा, शिल्पा शेट्टी के बयान पर नाराजगी जाहिर करती देखी गई थीं। उन्होंने एक्ट्रेस को आड़े हाथों लेते हुए कहा था,’मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार दीदी का ये कहना है कि उन्हें अपने पति देव के नापाक गतिविधियों के बारे में कोई भी जानकारी नहीं थी। और तो और दीदी का ये भी कहना है की उन्हें उनके पति की चल अचल संपत्ति के श्रोत की भी जानकारी नहीं थी। अब इस बात में कितनी सचाई है इसका अनुमान आप खुद लगा सकते हैं। वैसे इसे क्या कहते हैं एड़ा बनकर पेड़ा खाना।’