तांबे के बर्तन में पानी पीने के है अनेक फायदे

रात को तांबे के पात्र में पानी रख दें और सुबह इस पानी को पिएं तो अनेक फायदे होते हैं। आयुर्वेद में कहा गया है कि यह पानी शरीर के कई दोषों को शांत करता है। साथ ही, इस पानी से शरीर के जहरीले तत्व बाहर निकल जाते हैं। रात को इस तरह तांबे के बर्तन में संग्रहित पानी को ताम्र जल के नाम से जाना जाता है।

महत्वपूर्ण धातु है तांबा

आयुर्वेद के लिए तांबा एक अत्यंत महत्वपूर्ण धातु है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि हजारों सालों तक भारत और अन्य एशियाई देश तांबे के बड़े बर्तनों में पानी जमा करते थे। लोग गर्मी की तेज धूप में ठंडक महसूस करने के लिए तांबे के छोटे बर्तनों का पानी पीते थे। इस धातु में और भी बहुत कुछ था और तांबे के बर्तन से पानी पीने के कई फायदे हैं। आयुर्वेद के अनुसार तांबे के पानी में तीनों दोषों (वात, कफ, और पित्त) को दूर करने की क्षमता होती है। तांबे के बर्तन में स्टोर किये हुए जल को तमारा जल कहते है और इसे कम से कम 8 घंटे तांबे के बर्तन में रखने के बाद ही पीना चाहिए।

स्किन को बनाएं स्वस्थ

अधिकतर लोग हेल्दी स्किन के लिए तरह-तरह के कॉस्मेटिक्स का उपयोग करते हैं।  ये मानते हैं कि अच्छे कॉस्मेटिक्स यूज करने से त्वचा सुंदर हो जाती है, लेकिन ये सच नहीं है। स्किन पर सबसे अधिक प्रभाव आपकी दिनचर्या और खानपान का पड़ता है। इसीलिए अगर आप अपनी स्किन को हेल्दी बनाना चाहते हैं तो तांबे के बर्तन में रातभर पानी रखें और सुबह उस पानी को पी लें। नियमित रूप से इस नुस्खे को अपनाने से स्किन ग्लोइंग और स्वस्थ लगने लगेगी।

शरीर को बैक्टीरिया से बचाता है तांबा

सबसे अच्छे लाभों में से एक तांबे के बर्तन की रोगाणुओं, विशेष रूप से बैक्टीरिया को नष्ट करने की क्षमता है। वास्तव में, तांबा ई.कोली और एस.ऑरियस (दो प्रकार के बैक्टीरिया जो दस्त और पेचिश का कारण बन सकते हैं।) से निपटने के लिए उत्कृष्ट है। स्वच्छ पेयजल के दुर्लभ स्रोतों वाले ग्रामीण क्षेत्रों में लोग इसे शुद्ध करने के लिए तांबे के बर्तनों में पानी जमा करते हैं। इन बर्तनों में 16 घंटे तक रखा हुआ पानी पीने से डायरिया के सभी रोग नष्ट हो जाते हैं।

बैलेंस करता है मेटाबॉलिक एनर्जी

आयुर्वेद के अनुसार, हर किसी के पास एक प्रमुख चयापचय ऊर्जा (dominant metabolic energy) होती है। इन्हें वात, पित्त और कफ के नाम से जाना जाता है। यदि इन ऊर्जाओं में कोई असंतुलन है, तो आपको चिकित्सा संबंधी समस्याओं और परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। आयुर्वेद मानता है कि तांबे के बर्तन का पानी पीने से इन सभी तरह की एनर्जी को बैलेंस करने में मदद मिलती है।