मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर लगाया 11 लाख का इनाम

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के सिर काटने पर वर्ष 2017 में 11 लाख रुपए का पुरस्कार रखने वाले अलीगढ़ के युवा भाजपा नेता योगेश वार्ष्णेय के घर सिविल ड्रेस में दबिश डालने पहुंची।

पुलिस कर रही जांच

पश्चिम बंगाल पुलिस को शुक्रवार की शाम इलाके के लोगों व भाजपा कार्यकर्ताओं ने घेर लिया। उनको बमुश्किल अलीगढ़ पुलिस वहां से निकाल कर थाने लेकर आई। दोनों पुलिसवालों पर भाजपा नेताओं ने घर में घुसकर छेड़छाड़ का आरोप लगाया है। पूरे मामले पर अलीगढ़ पुलिस जांच की बात कह रही है। यहां पुलिस में मामले में तहरीर दी गई है। यह लोग जो बंगाल के लोग तथाकथित लोग आए हैं जो खुद को पुलिस बता रहे हैं। अब यह सब जांच में निकल के आएगा कि वह पुलिस के हैं या कोई और है। लेकिन कानूनी कार्रवाई इन के खिलाफ होगी।

यह था मामला

वाकया अगस्त 2017 का है, जब पश्चिम बंगाल के वीरभूमि जिले में हनुमान जयंती के मौके पर जुलूस निकाल रहे हिंदू जागरण मंच कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज हुआ था। इससे आहत शहर के गांधी नगर निवासी युवा भाजपा नेता योगेश वार्ष्णेय ने लाठीचार्ज के लिए वहां की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को बताया और उनका सिर लेकर आने वाले को 11 लाख के इनाम की घोषणा करते हुए बयान जारी कर दिया था। 12 अगस्त 2017 को इस बयान के बाद देश की सियासत में भूचाल मचा था। संसद तक में यह मुद्दा गूंजा था। इस मामले में टीएमसी के वीरभूमि के ही नेता ने वहां मुकदमा दर्ज कराया था। उस मुकदमे पर उस समय भी पश्चिम बंगाल पुलिस योगेश की गिरफ्तारी को यहां आई थी। मगर उस समय भी भाजपा नेताओं के दबाव में, अपने साथ नहीं ले जा सकी थी।