बारिश के दिनो में बचें इन बिमेरियों से

कई तरह कि बिमारियां मानसून सीजन के साथ आति हैं। मानसून के दस्तक देने के बाद हमारे आसपास सर्दी-जुकाम, बुखार से पीड़ित लोगों की संख्या बढ़ जाती है। कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली के चलते बुजुर्ग और बच्चे खासकर ऐसी बीमारियों की गिरफ्त में बहुत जल्दी आते हैं। मानसून के दौरान वायरस, बैक्टीरिया, और अन्य संक्रमणों के संपर्क में आने का जोखिम दो गुना ज्यादा होता है।

बचें इन बिमेरियों से-

टाइफाइड

यह सल्मोनल्ला एंटेरिका सेरोटाइप टाइफी नामक बैक्टीरिया की वजह से फैलने वाला गंभीर संक्रामक रोग है। दरअसल संक्रमित व्यक्ति के मल में भी यह बैक्टीरिया जीवित रहता है। खुले में शौच की आदत और सीवेज सिस्टम की व्यवस्था दुरुस्त न होने की वजह से यह लोगों के भोजन के जरिए शरीर में प्रवेश कर जाता है। यह बैक्टीरिया महीनों तक जीवित रहता है और बहुत तेजी से फैलता है। इसी वजह से संक्रमित व्यक्ति को स्वस्थ होने में कम से कम दो सप्ताह का समय लगता है।

डेंगू

एडीज़ प्रजाति के मच्छर इस समस्या के लिए जिम्मेदार होते हैं। इनके डंक के जरिए व्यक्ति के शरीर में फ्लैवी वायरस का प्रवेश हो जाता है और वहां तेजी से इसकी संख्या बढ़ने लगती है।

मलेरिया

यह भी एनोफेलीज़ नामक मच्छर के काटने से फैलता है। इसके डंक के जरिए प्लास्मोडियम नामक पैरासाइट व्यक्ति के शरीर में प्रवेश कर जाता है और रेड ब्लड सेल्स को तेजी से नष्ट करने लगता है। भारत में आमतौर पर लोगों को वाई-वैक्स मलेरिया होता है, पुराने समय में इसकी वजह से लोगों की मौत हो जाती थी, लेकिन अब इसका उपचार संभव है।

रखें इन बातों का ध्यान-

 

हाइजीन का रखे ध्यान

बारिश के दिनों में कोरोना से बचने के लिए स्वच्छता (हाइजीन) का विशेष ध्यान रखना चाहिए। खाने से पहले और छींक या खांसी के बाद हाथ अवश्य रूप से धोएं। बारिश में भीगें नहीं। भीगने के बाद सर्दी, खांसी और बुखार की समस्या हो सकती है। ऐसे में शरीर कमजोर होगा साथ ही इम्यूनिटी भी वीक होगी। ऐसी स्थिति में वायरस शरीर पर प्रभावी हो सकता है।

पानी उबाल कर पीएं
बारिश में पानी से सबसे पहले इंफेक्शन फैलता है, इसीलिए कहा जाता है इस मौसम में पानी उबाल कर पीना चाहिए। पानी को उबालने सभी तरह के बैक्टीरिया खत्म हो जाते हैं और पानी शुद्ध हो जाता। उबला पानी पीने से आप डिहाइड्रेशन और डायरिया जैसी बीमारियों से बच सकते हैं क्योंकि दूषित पानी पीने से बैक्टीरिया शरीर में पहुंच जाते हैं और पाचन तंत्र को प्रभावित करते हैं। जिसकी वजह से कई तरह की बीमारियां पैदा हो जाती हैं।

घर के आसपास पानी न जमने दें

बारिश के दिनों में खराब ड्रैनेज के चलते कई बीमारियों के संक्रमण का खतरा बना रहता है। इसलिए घर के अंदर और बाहर पानी नही जमा होने दें। पानी जमा होने से मच्छर बढ़ जाएंगे और डेंगू का खतरा बढ़ सकता है। इसके अलावा बारिश के दिनों में घर के अंदर पर्याप्त धूप और हवा आने की व्यवस्था करें। घर की नम हवा को बाहर निकलने के लिए क्रॉस वेंटिलेशन रखें। फर्नीचर को दीवार से लगाकर न रखें। हवा को निकलने के लिए जगह बनाएं। घर के अंदर एयर क्वॉलिटी को बढ़िया बनाए रखें।