10 घंटे तक श्रद्धा के टुकड़े किएआफताब ने :थक गया तो खाया खाना , बीयर पीकर नेटफ्लिक्स देखकर चैन से सो गया

श्रद्धा वॉकर मर्डर केस में आरोपी आफताब अमीन पूनावाला अब भी पुलिस को लगातार गुमराह करने की कोशिश कर रहा है। आफताब के झूठ लगातार सामने आ रहे हैं। उसने इस शातिराना तरीके से हत्या की है कि पुलिस के लिए अदालत में इस हत्या को साबित करना बड़ी चुनौती है। पुलिस के मुताबिक उसे श्रद्धा को मारने का अफसोस नहीं है। वह लॉकअप में चैन से सो रहा है। साकेत कोर्ट ने उसकी रिमांड 5 दिन बढ़ा दी है, यानी वह कुछ दिन और लॉकअप में ही रहेगा।

उधर, मुंबई के वसई की पुलिस भी हैरान है कि उसे पूछताछ के दौरान आफताब पर जरा भी शक नहीं हुआ था, लिहाजा उसे जाने दिया। श्रद्धा के दोस्तों, परिवार और पुलिस सूत्रों से बात करके आफताब की एक ऐसे डीसेंट बॉय की छवि बनती है, जिसके कातिल होने का शक शायद ही किसी को होता। इस हत्याकांड की कड़ियां मुंबई से लेकर दिल्ली तक बिखरी हैं और उन्हें जोड़ना आसान काम नहीं है।

छानबीन में जो नई बातें सामने आ रही हैं:

• दिल्ली में श्रद्धा का कत्ल करने के बाद वह मुंबई भी पहुंचा था और करीब 15 दिन पहले ही उसने परिवार वालों के साथ मिलकर सामान नए घर में शिफ्ट किया। उसे पता था कि अगर पकड़ा गया तो पुलिस और मीडिया परिवार को ढूंढेगा।

• मुंबई में आफताब और श्रद्धा 2019 में नयागांव में रहे और फिर कुछ महीनों बाद उसने अक्टूबर 2020 में वसई में फ्लैट किराए पर लिया। इन दोनों ही जगह आफताब ने श्रद्धा को अपनी पत्नी बताया था।

• आफताब ने घर के बिस्तर पर ही श्रद्धा का गला दबाकर उसकी जान ले ली थी। इसके बाद घर में उसके शव के 35 टुकड़े किए थे, लेकिन दिल्ली पुलिस हैरान है कि घर में खून का कोई धब्बा ही नहीं मिल रहा। आफताब ने पूरी तरह पक्का किया कि बिस्तर से कोई सबूत न मिले।

• दिल्ली पुलिस के सूत्रों के मुताबिक खून के धब्बों को ढूंढने के लिए क्राइम सीन पर बैन्जीन नामक केमिकल फेंका जाता है. इससे जहां भी खून गिरा होता है, वह जगह लाल हो जाती है। आफताब को इस पुलिस प्रोसेस का पता था, इसलिए उसने ऐसे केमिकल का इस्तेमाल खून साफ करने के लिए किया, जिस पर बैन्जीन बेअसर है।

• आफताब ने श्रद्धा के शव के 35 टुकड़ों को 18 पॉलिथीन बैग में बंद कर फ्रिज में रखा था। शव के टुकड़ों के साथ वो तमाम पॉलिथीन भी उसके खिलाफ अहम सबूत हैं। अब तक न तो शरीर के सभी टुकड़े बरामद हुए हैं और न ही फ्रिज में खून के धब्बे मिले हैं। बैन्जीन टेस्ट करने पर भी फ्रिज में खून के धब्बे नहीं मिले।

• आफताब ने कबूल किया है कि उसे श्रद्धा के शव के टुकड़े-टुकड़े करने में करीब 10 घंटे लगे थे। उसने एक घंटे तक शरीर के सभी टुकड़ों को पानी से धोया। इसके बाद सभी टुकड़ों को पॉलिथीन में बंद कर फ्रिज में रखता चला गया। इस दौरान उसने ऑनलाइन खाना भी मंगवाया। काम खत्म करने के बाद वह बीयर लाया, फिर नेटफ्लिक्स पर वेब सीरीज देखी और सो गया। हालांकि अगर वह कोर्ट में पलट गया तो इस कहानी को साबित करना बड़ी चुनौती होगी।

• श्रद्धा का कत्ल करने के बाद भी आफताब फ्लैट पर किसी महिला दोस्त को लेकर आया था। वो पहले भी श्रद्धा की गैरमौजूदगी में ऐसा करता था। इस वजह से दोनों के बीच झगड़े भी होते थे। पुलिस इन लड़कियों की भी तलाश कर रही है।

• पुलिस को सबूत मिले हैं कि श्रद्धा के कत्ल के बाद आफताब ने अपना पुराना फोन OLX पर बेच दिया है। इस फोन को रिकवर करने की कोशिश की जा रही है। आफताब ने अभी तक श्रद्धा के मोबाइल के बारे में भी सच-सच कुछ नहीं बताया है। महाराष्ट्र में जहां उसने फोन फेंकने की बात कही है, वहां से मोबाइल रिकवर नहीं हुआ है।

पहले भी श्रद्धा का मर्डर करना चाहा
पुलिस सूत्रों के मुताबिक, उसने पहले मार्च में भी श्रद्धा को मारने का सोचा था, लेकिन फिर उसकी भोली सूरत देखकर इरादा टाल दिया। उसे पकड़े जाने का डर भी था। पुलिस पूछताछ में पता चला है कि दिल्ली में आकर रहने से पहले श्रद्धा और आफताब हिमाचल प्रदेश के कसौल गए थे और यहां भी होटल के भीतर उनका झगड़ा हुआ था। श्रद्धा आफताब के कमरे के बाहर जाकर किसी और लड़की से बात करने को लेकर नाराज थी।

आफताब ने पुलिस को ये भी बताया है कि उसे भी शक था कि श्रद्धा किसी और लड़के के संपर्क में है। दोनों में बार-बार किसी ना किसी बात को लेकर झगड़ा और मारपीट होती थी, लेकिन फिर दोनों एक दूसरे को साथ निभाने का भरोसा देकर साथ रहते थे।

कहानी में बद्री नाम के शख्स की एंट्री
पुलिस पूछताछ में आफताब ने ये भी बताया है कि हिमाचल में घूमने के दौरान उनकी बद्री नाम के एक लड़के से मुलाकात हुई थी, जो दिल्ली के छतरपुर में रहता था। बद्री ने ही इनकी मदद दिल्ली में घर लेने में की थी। पुलिस इस बद्री को भी तलाश कर रही है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक आफताब ने बताया है कि डेटिंग एप्स और सोशल सर्किल के जरिए उसकी मुलाकात कई हिंदू लड़कियों से हुई, जिनसे उसने संबंध बनाए।

आफताब और श्रद्धा को उम्मीद थी कि दिल्ली आने के बाद उनके झगड़े बंद हो जाएंगे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। पुलिस के मुताबिक आफताब एक रात श्रद्धा से झगड़े के बाद रात में बाहर निकला और टहलते हुए महरौली के जंगल में चला गया। यहां उसे ख्याल आया कि शव को यहां आसानी से छुपाया जा सकता है। पुलिस पूछताछ में ये भी पता चला है कि आफताब क्राइम थ्रिलर देखता था और इंटरनेट पर लाश छुपाने के तरीकों के बारे में सर्च भी करता था।

आफताब ने पुलिस को भी बेफकूफ बनाया
श्रद्धा के परिवार का जब उससे संपर्क नहीं हुआ और उसका फोन भी बंद आने लगा तो अक्टूबर में परिवार ने मुंबई के मानिकपुर पुलिस स्टेशन में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई। मानिकपुर पुलिस ने भी आफताब से संपर्क किया था और उसे पूछताछ के लिए बुलाया था। हालांकि आफताब बेहद नॉर्मल दिख रहा था, उसने ऐसे बर्ताव किया कि पुलिस को उस पर शक नहीं हुआ। उसने ये कहानी सुनाकर पुलिस को चकमा दे दिया कि श्रद्धा अपनी मर्जी से कहीं चली गई थी, क्योंकि उसे अकेले रहना था।

पुलिस के संपर्क करने के बाद भी आफताब अंडरग्राउंड नहीं हुआ था। उसे भरोसा था कि वो पुलिस को चकमा दे देगा। पुलिस पूछताछ में वो बिल्कुल नॉर्मल रहा। मानिकपुर पुलिस ने एक बार फिर आफताब को पूछताछ के लिए बुलाया। इस बार भी आफताब बिल्कुल बेफिक्र और शांत था। पुलिस ने उसका दो पेज का लिखित बयान लिया और उसने वही कहानी दोहराई कि श्रद्धा झगड़े के बाद उसे छोड़कर चली गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.